स्तनपान कराने वाली माँ को क्या खाना चाहिये? (Breastfeeding mother diet in hindi)

स्तनपान कराने वाली माँ को क्या खाना चाहिये? (Breastfeeding mother diet in hindi)
स्तनपान कराने वाली माँ को अपने खाने का खास ध्यान रखना चाहिए, क्योंकि इस वक़्त जो माँ खाती है उसका सीधा असर शिशु पर पड़ता है। ऐसे में स्तनपान के दौरान महिलाओं को अपना भोजन (breastfeeding mother diet in hindi) सावधानीपूर्वक चुननी चाहिए। स्तनपान कराने वाली महिला का खाना ऐसा होना चाहिए ,जिसमें कैल्शियम (calcium in hindi), आयरन (iron in hindi), विटामिन (vitamin in hindi) जैसे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में हो। नीचे कुछ खाद्य पदार्थ हैं जिसका सेवन शिशु और अपनी अच्छी सेहत के लिए स्तनपान कराने वाली माँओं को करना चाहिए। 1. स्तनपान कराने वाली माँ को हरी सब्ज़ियां खानी चाहिए (Include green vegetables in breastfeeding mother diet in hindi) 2. स्तनपान कराने वाली माँ को फल खाने चाहिये (Include fruits in breastfeeding mother diet in hindi) 3. स्तनपान कराने वाली माँ के भोजन में दाल ज़रूर होनी चाहिए (Include lentils in breastfeeding mother diet in hindi) 4. स्तनपान कराने वाली महिला को खिलायें सौंफ-जीरा (Include light spices in breastfeeding mother diet in hindi) 5. माँ-बच्चे के लिए सेहतमंद है मांसाहारी खाना (अंडा या मांस-मछली) (Benefits of non veg in breastfeeding mother diet in hindi) 6. स्तनपान करवाने वाली माँ को कौनसे पेय पदार्थ पीने चाहिए? (Liquid diet while breastfeeding in hindi)

1. स्तनपान कराने के दौरान खूब पानी पीयें (Enough water during breastfeeding in hindi)

2. स्तनपान के दौरान फायदेमंद है सौंफ का पानी (Including Fennel water while breastfeeding in hindi)

3. स्तनपान कराने के दौरान पीयें बादाम दूध (Including almond milk while breastfeeding in hindi)

4. स्तनपान के दौरान गुणकारी है फलों का जूस (Including fruit juice while breastfeeding in hindi)

5. स्तनपान के दौरान पीयें नारियल पानी (Including coconut water while breastfeeding in hindi)

7. क्या ज्यादा दूध पीने से स्तनों में ज्यादा दूध बनता है? (Kya jyada dudh pine se jyada breast milk banta hai) 8. क्या स्तनपान के वक़्त माँ को केसर वाला दूध पीना चाहिए? (Kya stanpan ke vaqt ma ko kesar vala dudh pina chahiye) 9. क्या स्तनपान के दौरान उपवास करना सही है? (Fasting while breastfeeding in hindi) 1. स्तनपान कराने वाली माँ को हरी सब्ज़ियां खानी चाहिए (Include green vegetables in breastfeeding mother diet in hindi) स्तनपान कराने वाली माँ को हरी सब्ज़ियां खानी चाहिए (Include green vegetables in breastfeeding mother diet in hindi) हरी सब्जियों का सेवन तो हर किसी के लिए ज़रूरी होता है, लेकिन स्तनपान कराने वाली माँ के स्वास्थ के लिए ये बेहद ज़रूरी है। पालक जैसी पत्तेदार सब्जियों को अपने भोजन में ज़रूर शामिल करें, क्योंकि इनमें विटामिन ए (vitamin A in hindi) मौजूद होता है, जो आपके शिशु के विकास के लिए बहुत ही मददगार साबित होता है। पालक खाने से खून की कमी (anemia in hindi) भी दूर होगी। इसके साथ ही आप घीया (लौकी), प्याज जैसी हरी सब्ज़ियां भी आहार में शामिल कर सकती हैं, इससे माँ का दूध भी बढ़ता है। स्तनपान कराने वाली महिला को विटामिन ए (vitamin A in hindi) के लिए आप टमाटर, मटर, लाल शिमला मिर्च, शकरकंद जैसी सब्ज़ियाँ खानी चाहिये। 2. स्तनपान कराने वाली माँ को फल खाने चाहिये (Include fruits in breastfeeding mother diet in hindi) स्तनपान कराने वाली माँ को फल खाने चाहिये (Include fruits in breastfeeding mother diet in hindi) अक्सर स्तनपान कराने वाली महिला को अच्छे स्वास्थ्य के लिए फल खाने के लिए कहा जाता है। वैसे तो विटामिन सी (vitamin C in hindi) से भरपूर खट्टे फल खाना आपकी सेहत के लिए बहुत अच्छा है, लेकिन कई बार स्तनपान कराने वाली माँ के खट्टे फल खाने से शिशु को पाचन संबंधी समस्या जैसे दस्त, उल्टी, अपच, गैस या खट्टी डकार आदि हो सकती हैं। इसलिए खट्टे फल खाने के बाद अगर शिशु को कोई परेशानी हो तो उन्हें खाना बन्द कर दें। इसके अलावा आप आम, अमरूद और अन्य मौसमी फल खा सकती हैं। 3. स्तनपान कराने वाली माँ के भोजन में दाल ज़रूर होनी चाहिए (Include lentils in breastfeeding mother diet in hindi) स्तनपान कराने वाली माँ के भोजन में दाल ज़रूर होनी चाहिए (Include lentils in breastfeeding mother diet in hindi) स्तनपान कराने वाली माँ को अपने भोजन में दाल ज़रूर शामिल करनी चाहिये। दाल में भरपूर मात्रा में प्रोटीन (protein in hindi) होता है जो माँ के स्तनों में दूध की मात्रा बढ़ाने में सहायता करता है। कई बार महिलाओं को स्तनों में कम दूध बनने की परेशानी से गुज़रना पड़ता है, लेकिन अगर स्तनपान कराने वाली माँ इस दौरान दाल का सेवन करे, खासतौर पर मसूर दाल, तो इस समस्या से राहत मिल सकती है। 4. स्तनपान कराने वाली महिला को खिलायें सौंफ-जीरा (Include light spices in breastfeeding mother diet in hindi) स्तनपान कराने वाली महिला को खिलायें सौंफ-जीरा (Include light spices in breastfeeding mother diet in hindi) स्तनपान (stanpan) कराने वाली महिलाओं को अपने खाने में हल्के-फुल्के मसालों को भी शामिल करना चाहिए, क्योंकि इससे ना सिर्फ आपकी पाचन क्रिया बढ़ेगी, बल्कि ये आपके शिशु की सेहत के लिए भी फायदेमंद है। स्तनपान कराने वाली महिला सौंफ को खाना खाने के बाद पाचक के तौर पर खा सकती है और जीरा अगर आपको ऐसे ना पसंद हो तो आप उसे हल्का भूनकर पीस लें और दही या रायते में डालकर खा सकती हैं। 5. माँ-बच्चे के लिए सेहतमंद है मांसाहारी खाना (अंडा या मांस-मछली) (Benefits of non veg in breastfeeding mother diet in hindi) माँ-बच्चे के लिए सेहतमंद है मांसाहारी खाना (अंडा या मांस-मछली) (Benefits of non veg in breastfeeding mother diet in hindi) अगर स्तनपान कराने वाली महिला मांसाहारी खाना खाती है तो उसे अपने खाने में अंडा ज़रूर शामिल करना चाहिये। अंडा एक संपूर्ण आहार है, इसमें प्रोटीन (protein in hindi), कैल्शियम (calcium in hindi), विटामिन (vitamin in hindi) और आयरन (iron in hindi) जैसे कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं जो स्तनपान कराने वाली माँ और शिशु दोनों के लिए गुणकारी होता है। अंडा खाने से स्तनपान कराने वाली माँ को जोड़ों में दर्द या कमज़ोरी जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है और उसके दूध में पोषक तत्वों की मात्रा बढ़ती है, जो कि शिशु के शारीरिक विकास के लिए अच्छा होता है। अगर आपको मांस-मछली पसंद है तो उसे अपने खाने में ज़रूर शामिल करें क्योंकि इससे आपको सही मात्रा में आयरन (iron in hindi) मिलता है । छोटी समुद्री मछलियों के अलावा बाकी समुद्री भोजन (sea food in hindi) जैसे बड़ी मछलियों, केकड़े आदि में मर्करी (mercury in hindi) की मात्रा ज्यादा होती है, जो शिशु के दिमागी विकास में बाधा पैदा करता है, इसलिए उन्हें सी फ़ूड नहीं खाना चाहिये, लेकिन स्तनपान कराने वाली महिला मांसाहार में ताजे पानी की छोटी मछलियाँ, मुर्गी व बकरा आदि खा सकती है। 6. स्तनपान करवाने वाली माँ को कौनसे पेय पदार्थ पीने चाहिए? (Liquid diet while breastfeeding in hindi) स्तनपान करवाने वाली माँ को कौनसे पेय पदार्थ पीने चाहिए? (Liquid diet while breastfeeding in hindi) स्तनपान कराने वाली माँ को अपने खाने का ध्यान रखने के साथ ही साथ शरीर को तरोताज़ा बनाये रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में पेय पदार्थ पीने का भी विशेष ध्यान रखना चाहिए। दूध बनने के दौरान माँ के शरीर को बड़ी मात्रा में तरल की ज़रूरत होती है, इसलिए स्तनपान कराने वाली माँ को ढेर सारा पानी पीना चाहिए। शरीर में पानी और ऊर्जा की पूर्ति के लिए स्तनपान कराने वाली महिलाएं निम्न तरल पदार्थ पी सकती हैं।

1. स्तनपान कराने के दौरान खूब पानी पीयें (Enough water during breastfeeding in hindi)

स्तनपान कराने वाली माँओं को दिनभर खूब पानी पीना चाहिये, क्योंकि दूध बनने की वजह से उनके शरीर में पानी की कमी हो सकती है। अपने शरीर में पानी की कमी से बचने के लिये आपको दिनभर में कम से कम आठ से दस गिलास पानी पीना चाहिए। जन्म के पहले छह माह तक शिशु को पानी पिलाने से इसलिए मना किया जाता है, क्योंकि उसके शरीर में पानी की कमी की पूर्ति माँ के दूध से हो जाती है, जिसमें करीब 88 प्रतिशत पानी होता है।

2.स्तनपान के दौरान फायदेमंद है सौंफ का पानी (Including Fennel water while breastfeeding in hindi)

स्तनपान कराने वाली महिलाएं सौंफ की चाय या सौंफ का पानी पी सकती हैं। आप पानी को उबाले और फिर उसमें सौंफ के कुछ दाने डाल दें, ताकि पानी में सौंफ के गुण भी आ जाए और पानी कड़वा भी ना लगे। इसे पीने से स्तनपान करवाने वाली माँ के शरीर में हार्मोन्स की मात्रा बढ़ती और दूध बनने की प्रक्रिया तेज होती है और इसे पीने से दूध गाढ़ा होता है।

3.स्तनपान कराने के दौरान पीयें बादाम दूध (Including almond milk while breastfeeding in hindi)

माँ का दूध शिशु के लिए का संपूर्ण आहार होता है, ऐसे में स्तनपान कराने वाली माँ बच्चे को अतिरिक्त पोषण देने के लिए काजू , बादाम, किशमिश, आदि सूखे मेवे खा सकती है। 10 से 15 बादाम रातभर पानी में भिगोएं और फिर सुबह इन्हे पीसकर दूध में मिलाकर पी सकती है। बादाम में विटामिन ए, डी और ई (vitamin A, D and E in hindi) मौजूद होते हैं, जिससे आपकी कमज़ोरी दूर होगी और आपको ऊर्जा या शक्ति (energy in hindi) मिलने में मदद मिलेगी।

4. स्तनपान के दौरान गुणकारी है फलों का जूस (Including fruit juice while breastfeeding in hindi)

स्तनपान (stanpan)कराने वाली माँओं के लिए फलों का जूस या शेक भी काफी फायदेमंद होता है। आप संतरे या मौसंबी का जूस पी सकती हैं, लेकिन ध्यान रहे कि आप ठंड के दिनों में फलों के जूस का सेवन ना करें क्योंकि इसकी तासीर ठंडी होती है और इससे आपके शिशु को भी ठंड लग सकती है।

5. स्तनपान के दौरान पीयें नारियल पानी (Including coconut water while breastfeeding in hindi)

नारियल पानी में कई गुण होते है और यह स्तनपान करवाने वाली माँ के लिए बेहद फायदेमंद है। इसे पीने से ना केवल माँ का दूध बढ़ता है, बल्कि इससे शिशु की बिमारियों से लड़ने की क्षमता (immunity in hindi) भी बढ़ती है। नारियल पानी में मौजूद कैल्शियम (calcium in hindi), सोडियम (sodium in hindi), विटामिन सी (vitamin C in hindi), पोटैशियम (potassium in hindi) जैसे पोषक तत्व माँ और शिशु दोनों के लिए लाभकारी होते है।

इन सबके अलावा स्तनपान कराने वाली महिला अदरक की चाय, हरी चाय (ग्रीन टी) या मेथी की चाय भी पी सकती है, लेकिन याद रहे चाय हमेशा कम मात्रा में ही पिएं, क्योंकि इनका ज़रूरत से ज़्यादा सेवन आपके शिशु और आप में अनिद्रा या पेट की गड़बड़ी की समस्या उत्पन्न कर सकता है। अगर गर्भावस्था के समय आपको किसी खाने या पीने की चीज से कोई समस्या जैसे गैस बनना या बदहज़मी आदि हुई है, तो शिशु को स्तनपान (stanpan) कराने के दौरान भी ऐसी चीजें ना खायें।

7. क्या ज्यादा दूध पीने से स्तनों में ज्यादा दूध बनता है? (Kya jyada dudh pine se jyada breast milk banta hai) क्या ज्यादा दूध पीने से स्तनों में ज्यादा दूध बनता है? (Kya jyada dudh pine se jyada breast milk banta hai) जी नहीं, स्तनपान कराने वाली माँ के ज्यादा दूध पीने से उसके स्तनों में दूध की मात्रा पर कोई असर नहीं पड़ता है। मगर माँ की अच्छी सेहत के लिए उसे रोज़ाना दो से तीन गिलास दूध पीना चाहिए, क्योंकि माँ के भोजन में कैल्शियम (calcium in hindi) की कमी होने पर माँ की हड्डियों में कैल्शियम की कमी हो सकती है। 8. क्या स्तनपान के वक़्त माँ को केसर वाला दूध पीना चाहिए? (Kya stanpan ke vaqt ma ko kesar vala dudh pina chahiye) क्या स्तनपान के वक़्त माँ को केसर वाला दूध पीना चाहिए? (Kya stanpan ke vaqt ma ko kesar vala dudh pina chahiye) केसर (saffron in hindi) बहुत गुणकारी होता है, इसमें संक्रमण को दूर करने और शरीर में खून की मात्रा बढ़ाने का गुण होता है। स्तनपान करवाने वाली माँ दूध में शुद्ध केसर के एक या दो रेशे डालकर पी सकती है। मगर बाजार में मिलावटी केसर भी मिलता है इसलिए केसर सावधानी से खरीदें, क्योंकि इसमें मौजूद नकली रंग आपके दूध के ज़रिये शिशु के शरीर में जाकर उसकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। इसके अलावा ज्यादा मात्रा में केसर वाला दूध (saffron milk during breastfeeding in hindi) ना पीयें, इससे शिशु के पेट में गैस या दर्द हो सकता है। 9. क्या स्तनपान के दौरान उपवास करना सही है? (Fasting while breastfeeding in hindi) क्या स्तनपान के दौरान उपवास करना सही है? (Fasting while breastfeeding in hindi) नवजात शिशु के लिए माँ का दूध बेहद ज़रूरी है। अगर आप अपने शिशु को स्तनपान (stanpan) करवाती हैं, तो व्रत करने से पहले आपके मन में कई सवाल उठते होंगे, जैसे "क्या उपवास करना मेरे शरीर और मेरे शिशु के लिए सुरक्षित है?"
अगर व्रत करना बहुत ज़रूरी नहीं है, तो स्तनपान (stanpan) कराने वाली माँ को व्रत नहीं करना चाहिए। बहुत ज़रूरी होने पर अगर आपको व्रत करना पड़ता है, तो ध्यान रखें कि अगर आपको कमज़ोरी महसूस हो, तो बेहिचक व्रत खोल लें, इसमें कोई बुराई नहीं है।
विशेषज्ञ कहते हैं कि स्तनपान कराने वाली माँ के उपवास करने से उसके दूध की मात्रा और गुणवत्ता कम नहीं होती है। उपवास के दौरान स्तनपान करवाने वाली माँ को पर्याप्त मात्रा में पेय पदार्थ पीने चाहिए, ताकि उसे ऊर्जा मिलती रहे और शरीर में पानी की कमी ना हो। शरीर में पानी की कमी होने से दूध की मात्रा घट सकती है, इसलिए व्रत के दौरान स्तनपान करवाने वाली माँ को फलों का जूस, नारियल पानी, छाछ, पानी आदि तरल पदार्थ पीते रहना चाहिए। अगर आपको कमज़ोरी महसूस हो रही है, तो पानी में ग्लूकोज़ मिलाकर पीयें और थोड़ी देर लेट जायें। अगर इसके बाद भी कमज़ोरी और थकान महसूस होती है तो डॉक्टर के पास जायें या फिर शिशु और अपनी सेहत की ख़ातिर अपना व्रत खोल लें।
लम्बे समय तक उपवास जैसे नवरात्रि या रमजान के वक़्त जब भी समय मिले पर्याप्त मात्रा में खाना खायें, ताकि आपका वजन कम ना हो। उपवास के दौरान स्तनपान (stanpan) कराने वाली माँ के दूध में फैट (fat in hindi) की मात्रा कम ज्यादा हो सकती है और साथ ही फैट का प्रकार भी बदल सकता है, लेकिन इसमें चिंता की कोई बात नहीं है, क्योंकि माँ का दूध, माँ के रक्त में मौजूद पोषक तत्वों से ही युक्त होता है। जब स्तनपान कराने वाली माँ उपवास करती है तो उसके शरीर में जमा फैट माँ को ऊर्जा देने के लिए रक्त में घुल जाता है और इसलिए लम्बे उपवास के दौरान स्तनपान कराने वाली माँ के दूध में फैट की मात्रा और फैट का प्रकार बदल सकता है।
शिशु को माँ के दूध के ज़रिये वो सभी पोषक तत्व मिलते हैं, जिन्हें माँ अपने भोजन से प्राप्त करती है। अगर आप अच्छा खाना खाएंगी तो शिशु का स्वास्थ्य बेहतर होगा, लेकिन अगर आपके आहार में हानिकारक तत्व शामिल हैं, तो इसका शिशु की सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। इसलिए स्तनपान (stanpan) करवाने वाली माँ को सेहतमंद चीजें खानी चाहियें और हानिकारक चीजों से दूर रहना चाहिए। अच्छा खाएं और अपने साथ शिशु को भी सेहतमंद बनाएं।
इस ब्लॉग के विषय - स्तनपान कराने वाली माँ को हरी सब्ज़ियां खानी चाहिए (Include green vegetables in breastfeeding mother diet in hindi), स्तनपान कराने वाली माँ को फल खाने चाहिये (Include fruits in breastfeeding mother diet in hindi),स्तनपान कराने वाली माँ के भोजन में दाल ज़रूर होनी चाहिए (Include lentils in breastfeeding mother diet in hindi),स्तनपान कराने वाली महिला को खिलायें सौंफ-जीरा (Include light spices in breastfeeding mother diet in hindi), माँ-बच्चे के लिए सेहतमंद है मांसाहारी खाना (अंडा या मांस-मछली) (Benefits of non veg in breastfeeding mother diet in hindi), स्तनपान करवाने वाली माँ को कौनसे पेय पदार्थ पीने चाहिए? (Liquid diet while breastfeeding in hindi), स्तनपान कराने के दौरान खूब पानी पीयें (Enough water during breastfeeding in hindi), स्तनपान के दौरान फायदेमंद है सौंफ का पानी (Including Fennel water while breastfeeding in hindi), स्तनपान कराने के दौरान पीयें बादाम दूध (Including almond milk while breastfeeding in hindi), स्तनपान के दौरान गुणकारी है फलों का जूस (Including fruit juice while breastfeeding in hindi), स्तनपान के दौरान पीयें नारियल पानी (Including coconut water while breastfeeding in hindi), क्या ज्यादा दूध पीने से स्तनों में ज्यादा दूध बनता है? (Kya jyada dudh pine se jyada breast milk banta hai), क्या स्तनपान के वक़्त माँ को केसर वाला दूध पीना चाहिए? (Kya stanpan ke vaqt ma ko kesar vala dudh pina chahiye), क्या स्तनपान के दौरान उपवास करना सही है? (Fasting while breastfeeding in hindi)
नए ब्लॉग पढ़ें