शिशु का स्तनपान कब और कैसे बन्द करें? (Baby weaning tips in hindi)

शिशु का स्तनपान कब और कैसे बन्द करें? (Baby weaning tips in hindi)

विश्व स्वास्थ्य संगठन (वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन) के अनुसार शिशु को छः महीने स्तनपान (stanpan) कराने के बाद उसे दूध पिलाना बन्द कर सकती हैं, लेकिन विशेषज्ञों के अनुसार शिशु को दूध पिलाना बन्द करने की सुरक्षित उम्र एक वर्ष से डेढ़ वर्ष है, क्योंकि इस उम्र में शिशु हल्का फुल्का ठोस आहार, गाय का दूध आदि चीजें पचा सकता है।

शिशु का स्तनपान (breastfeeding in hindi) बन्द करना आसान नहीं होता, इस दौरान माँ व शिशु दोनों को मुश्किलों व तनाव का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में नीचे बताए गए कुछ आसान उपाय (weaning tips in hindi) अपनाकर आप अपने शिशु का दूध आसानी से छुड़ा सकती हैं (weaning in hindi)।

शिशु का स्तनपान बंद कराने का सही समय कैसे पहचानें?

(Best time for weaning in hindi)

weaning right time

  • शिशु के दाँत (baby teething in hindi) आने शुरू हो गए हैं।
  • शिशु अब दूध पीने में कम रुचि लेता है।
  • उसे ठोस आहार अच्छा लगने लगा है और ज्यादातर वह ठोस आहार ही खाता है।
  • आपके स्तनों में दूध बनना कम हो गया है।
  • आपको शारीरिक परेशानियाँ होने लगें।
  • आप दोबारा गर्भ धारण करना चाहती हैं।
  • शिशु की आयु दो वर्ष से अधिक हो चुकी है।

स्तनपान बंद करने के उपाय

(Tips for weaning in hindi)

tips to stop breastfeeding

शिशु का स्तनपान (stanpan) बंद करना वाक़ई एक मुश्किल काम है, इस दौरान शिशु और माँ दोनों को बुरा लगता है, लेकिन कभी कभी ये आपके बच्चे और आपके शरीर की भलाई के लिए ज़रूरी हो जाता है। शिशु का स्तनपान (breastfeeding in hindi) एकदम से बंद करने के बजाय धीरे धीरे करें, इससे बच्चे का दूध छुड़ाना थोड़ा आसान हो सकता है। अपने शिशु का स्तनपान बंद करने के लिए आप ये उपाय (tips for weaning in hindi) आज़मा सकती हैं -

  • शुरुआत में स्तनपान (stanpan) कराने की संख्या कम करें, जैसे अगर आप शिशु को पहले दिन में चार बार दूध पिलाती थीं, तो धीरे धीरे इसे घटाकर तीन बार पिलाना शुरू करें और हर एक हफ्ते में इसे घटाती जाएं।

  • शिशु को सेहतमंद और मज़ेदार ठोस आहार देना शुरू करें, जैसे अगर बच्चा एक वर्ष से बड़ा है तो उसे उबले आलू को मसलकर उसमें थोड़ा नमक और काली मिर्च मिलाकर दे सकती हैं।

  • एक साल से बड़े बच्चे को दिन में स्तनपान (stanpan) कराने के बजाय एक कप गाय का दूध पिलायें।

  • बच्चे को स्तनपान (breastfeeding in hindi) ना करने से जुड़ी कोई कहानी सुनायें, जैसे “मम्मा को अब दूध नहीं आएगा, क्योंकि अब आप छोटे बच्चे नहीं रहे। केवल छोटे बच्चों की मम्मा को ही दूध आता है। अब आपको बड़े होने के लिए गाय का दूध पीना होगा, इससे आप भी गाय की तरह बहुत बड़े हो जाओगे।”

  • अपने दोनों स्तनों के निप्पल पर करेले या नीम का रस लगा सकती हैं (tips for weaning in hindi)। बच्चे को कोई किस्सा बनाकर सुनाएँ, जैसे “मम्मा को अब दूध नहीं आता, अब दूदू कड़वा हो गया।” “परी कहती है कि अब आपको दूसरा खाना ज्यादा खाना चाहिए, क्योंकि केवल दूदू पीने से आप पापा जितने बड़े नहीं हो पाओगे।”

  • इस बात का खास ख़याल रखें कि शिशु भूखा ना रहे, उसे समय समय पर थोड़ा थोड़ा खिलाने की कोशिश करें।

  • अगर शिशु एक साल से कम उम्र का है तो, शुरुआत में कुछ दिन उसे बोतल से दूध पिलायें और फिर धीरे धीरे उसे कप में दूध पीना सिखायें या खुद कप से उसे दूध पिलाएं।

शिशु का दूध छुड़ाने के दौरान समस्याएं व उपचार

(problems and solutions of weaning in hindi)

problems of weaning

समस्याएँ समाधान
बच्चे का दूध पीने के लिए रोना 1) अगर वह एक साल से ज्यादा बड़ा है, तो उसे गाय का दूध (cow milk in weaning in hindi) पिला सकती हैं। 2) अगर शिशु एक साल से छोटा है, तो बेहतर यही है कि आप उसे अपना दूध पिलाएं, अगर किसी कारण आप ऐसा नहीं कर सकतीं, तो उसे दाल का पानी, सूप आदि पिला सकती हैं। गाय का दूध ना पिलायें।
ठोस आहार ना खाना 1) शिशु को उसका मनपसन्द सेहतमंद खाना जैसे उबला आलू, कटे फल, केले का शेक आदि खाने को दे सकती हैं। 2) बिना चीनी वाला फलों का रस, फलों का शेक, चिकन सूप आदि पीने को दे सकती हैं।
शिशु का चिड़चिड़ा होना 1) उसे स्तनपान (stanpan) के समय पर कुछ मज़ेदार बनाकर खिलायें, जैसे शहद या कम चीनी वाला सूजी का हलवा, कम मसालेदार उपमा आदि। 2) उसे प्यार से समझाएं और कहीं बाहर घुमाने ले जाएं, जैसे शाम के समय पार्क में ले जायें। 3) अगर शिशु खाने के बाद भी स्तनपान (breastfeeding in hindi) की ज़िद कर रहा है, तो उसे किसी मजेदार खेल में व्यस्त करने की कोशिश करें।
माँ का उदास होना 1) अपने मन को समझाएं कि शिशु के लिए यह ज़रूरी है। 2) कुछ दिन मन को संभालें, धीरे धीरे बच्चा आपका दूध पीने के लिए रोना बंद कर देगा।

शिशु का स्तनपान बंद कराने में सहायक 10 खाने की चीजें

(Top ten foods for weaning in hindi)

foods for weaning

1. बच्चे का स्तनपान छुड़ाने के लिए भोजन - उबली सब्ज़ियां (Vegetables for weaning in hindi)

उबले आलू, गाज़र आदि शिशु का स्तनपान (stanpan) बंद कराने में बेहद मददगार होने के साथ ही शिशु की सेहत के लिए भी फायदेमंद होते हैं। सब्जियों को अच्छी तरह धोकर उबालें और हल्का नमक डालकर बच्चे को खिलायें।

2. बच्चे का दूध छुड़ाने के लिए आहार - हरी सब्ज़ियां (Green vegetables for weaning in hindi)

आयरन (irom in hindi), विटामिन (vitamin in hindi) और अन्य जरूरी पोषक तत्वों से युक्त हरी सब्जियां आपके शिशु के विकास में सहायक होती हैं। शिशु का स्तनपान (breastfeeding in hindi) बंद करने के दौरान आप पालक, मेथी जैसी हरी सब्जियां उबालकर और मसलकर अपने शिशु को खिला सकती हैं। शुरुआत में इन्हें हफ्ते में केवल एक से दो बार ही खिलायें।

3. शिशु का दूध छुड़ाने के लिए आहार - सूप (Soup for weaning in hindi)

शिशु का दूध छुड़ाते समय उसे सूप पिलाना सुरक्षित है। डेढ़ वर्ष से छोटे बच्चों को सूप पिलाने से पहले उसमें से सब्जियों को छानकर अलग निकाल दें और फिर पिलायें। साफ और बारीक कटी सब्जियों से बना सूप शिशु को सेहतमंद बनाता है। अगर बच्चा डेढ़ साल से बड़ा है तो उसे सूप में अच्छी तरह कटी सब्जियां भी खिला सकती हैं। इसे दिन के समय बच्चे को पिलायें। इससे बच्चे के शरीर में पानी की पूर्ति भी हो जाएगी।

4. शिशु का दूध छुड़ाने के लिए खाना - फल (Fruits for weaning in hindi)

स्तनपान बन्द कराते समय शिशु को फल खिला सकती हैं। फलों में मौजूद प्राकृतिक मिठास बच्चों के लिए फायदेमंद होती है और ज्यादातर बच्चे फल खाना पसंद करते हैं। शुरुआत में बच्चे को केला या सेब छीलकर और मसल कर दें। अगर बच्चा मसला हुआ सेब, केला आदि खाने लगता है, तो आप धीरे धीरे उसे आम, नाशपाती, और अन्य फल भी खिला सकती हैं। फलों में कई सारे विटामिन (vitamin in hindi), खनिज तत्व (minerals in hindi) आदि होते हैं, जो बच्चे के विकास में सहायता करते हैं।

5. बच्चे का दूध छुड़ाने के लिए भोजन - फलों का जूस (Fruit juice for weaning in hindi)

शिशु को स्तनपान (stanpan) कराना बंद करते समय फलों का ताज़ा जूस पिला सकते हैं। फलों का जूस कुदरती रूप से मीठा होता है, और बच्चे इसे काफी पसंद भी करते हैं, इसलिए बच्चों का स्तनपान बन्द कराने (weaning in hindi) में फलों का रस काफी मददगार होता है। शिशु को नाश्ते में और दोपहर के खाने के बाद फलों का जूस पिला सकती हैं। इससे उसे उचित मात्रा में पोषक तत्व भी मिल जाते हैं।

6. शिशु का स्तनपान छुड़ाने के लिये भोजन - राजमा, लोबिया (Dal for weaning in hindi)

राजमा व लोबिया में काफी ज्यादा मात्रा में प्रोटीन व आयरन होता है, जो कि शिशु का दूध छुड़ाने के लिए उसे खिलाना चाहिए। कभी कभी आप अपने बच्चे को उबले और मसले हुए राजमा हल्का नमक व काली मिर्च मिलाकर खाने के लिए दे सकती हैं।

7. बच्चे का दूध छुड़ाने के लिए खाना - हल्का ठोस आहार (Solid food for weaning in hindi)

अगर आपका बच्चा ठोस आहार खाने लगा है तो दूध छुड़ाते वक़्त आप शिशु को अच्छी तरह पकी हुई दाल व चावल खिला सकती हैं। वैसे बच्चे को खाने में ठोस आहार देने से पहले एक बार बच्चों के डॉक्टर से सलाह लेना ज्यादा बेहतर है।

8. बच्चे का स्तनपान छुड़ाने के लिए आहार - पानी (Water for weaning in hindi)

शिशु का स्तनपान (breastfeeding in hindi) बंद करते समय अक्सर माँएं इस चिंता में रहती हैं कि शिशु के शरीर में पानी की कमी ना हो जाये। लेकिन बेफिक्र रहें, अब जब आपका बच्चा ठोस आहार खाने लगा है, तो उसे थोड़ा थोड़ा पानी पिलाना भी शुरू करें। शिशु को पर्याप्त पानी पिलाने से उसके शरीर में पानी की कमी नहीं होगी और साथ ही उसके शरीर से हानिकारक पदार्थ बाहर निकल जायेंगे।

9. बच्चे का स्तनपान छुड़ाने के लिए भोजन - अंडा (Egg for weaning in hindi)

बच्चे का दूध छुड़ाते वक़्त आप उसे प्रोटीन (protein in hindi), कैल्शियम (calcium in hindi), ज़िंक (zink in hindi) और विटामिन (vitamin in hindi) से भरपूर अंडा खाने को दे सकती हैं, लेकिन पहले शिशु को थोड़ा सा अंडा खिलाकर देखें , अगर शिशु ठीक रहता है तो उसे अंडा खिला सकती हैं। अंडा शिशु के विकास के लिए बहुत अच्छा होता है। शिशु को अच्छी तरह उबला हुआ अंडा ही खिलायें, क्योंकि अधपके अंडे से बच्चा बीमार हो सकता है। एक वर्ष से अधिक आयु के बच्चे को गाय के दूध में अच्छी तरह उबले अंडे की जर्दी मिलाकर शिशु को खिला सकती हैं।

10. शिशु का दूध छुड़ाने के लिए आहार - माँस (Meat in weaning in hindi)

माँस प्रोटीन (protein in hindi), विटामिन (vitamin in hindi) व कई बहुत ज़रूरी पोषक तत्वों का खज़ाना होता है, लेकिन अपने बच्चे को माँस खिलाने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें। अगर डॉक्टर बच्चे के भोजन में मांसाहार शामिल करने की इजाज़त दे देता है, तो उसे अच्छी तरह पका हुआ चिकन सूप बनाकर खिला सकती हैं। शिशु को हमेशा ताज़ा मांस ही खिलायें।, डिब्बाबन्द या फ्रिज में रखा हुआ मांस शिशु की सेहत के लिए हानिकारक होता है।

स्तनपान (breastfeeding in hindi) के ज़रिए माँ और शिशु के बीच एक बेहद खास रिश्ता बन जाता है, जिसे तोड़ना माँ व शिशु दोनों के लिये बहुत मुश्किल होता है। लेकिन एक वक़्त ऐसा आता है जब आपको अपने बच्चे को स्तनपान (stanpan) कराना बंद करना पड़ता है, और ये प्रक्रिया बहुत मुश्किल भी हो सकती है।

बच्चे का दूध छुड़ाने के समय को आसान और अच्छा बनाने के लिए ऊपर बताए गए उपाय (tips for weaning in hindi) आजमा कर देखें और फिर आपको महसूस होगा कि बच्चे का दूध छुड़ाना इतना मुश्किल भी नहीं है। थोड़ी बहुत परेशानियों के बाद आपकी ज़िंदगी फिर से पहले की तरह खुशनुमा हो जाएगी और आपका शिशु अपनी नई दिनचर्या में ढलने लगेगा।

इस ब्लॉग के विषय - शिशु का स्तनपान बंद कराने का सही समय कैसे पहचानें? (Best time for weaning in hindi),स्तनपान बंद करने के उपाय (Tips for weaning in hindi),शिशु का दूध छुड़ाने के दौरान समस्याएं व उपचार (Problems and solutions of weaning in hindi),शिशु का स्तनपान बंद कराने में सहायक 10 खाने की चीजें (Top ten foods for weaning in hindi)
नए ब्लॉग पढ़ें