नवजात शिशु के जन्म के बाद आने वाले मेहमानों को कैसे संभालें? (Baby ke janm ke bad ghar aane vale guest ko kaise sambhale)

नवजात शिशु के जन्म के बाद आने वाले मेहमानों को कैसे संभालें? (Baby ke janm ke bad ghar aane vale guest ko kaise sambhale)

प्रसव के बाद नए माता पिता अपने नवजात शिशु की देखभाल में इतने व्यस्त हो जाते हैं, कि घर के बाकी कामों पर वो ध्यान ही नहीं दे पाते। ऊपर से नए शिशु व माँ से मिलने के लिए घर पर मेहमान आते रहते हैं। ऐसे में आप अक्सर अपने घर की हालत और मेहमानों की देखभाल को लेकर चिंतित हो जाते हैं, लेकिन अभी आपको अपना और अपने शिशु का ध्यान रखने की ज्यादा जरूरत है। इस ब्लॉग में हम आपको बच्चे के जन्म के बाद घर आने वाले मेहमानों के बीच नवजात शिशु और माँ की देखभाल के बारे में कुछ ज़रूरी बातें बता रहे हैं।

नवजात शिशु की देखभाल: क्या बच्चे को मेहमानों की गोद में दे सकते हैं?

(Newborn baby care in hindi: kya baby ko mehmano ki god me de sakte hain)

जी हाँ, अगर आपसे मिलने वाले लोग स्वस्थ हैं और उन्होंने अपने हाथ अच्छी तरह से धोए हैं तो आप बिना किसी घबराहट के उनकी गोद में अपने शिशु को दे सकती हैं। लेकिन अगर आपके घर आया मेहमान बीमार है, तो उसे प्यार से बच्चे के पास जाने से मना कर दें, क्योंकि इससे शिशु बीमार हो सकता है। चाहे तो यह भी कह सकते हैं कि “जब आप स्वस्थ होंगे तब शिशु को गोद में ले सकते हैं।”

नवजात शिशु की देखभाल: घर पर मेहमान आने पर नवजात शिशु को लेकर क्या सावधानियां बरतें?

(Newborn baby care in hindi: ghar par guest aane par baby ke liye kya savdhaniya barte)

newborn baby care

  • चाहे कोई भी हो, बिना हाथ धोए उसे शिशु को हाथ ना लगाने दें।
  • अगर कोई बीमार है, तो उसे किसी भी हालत में शिशु के कमरे में ना जाने दें।
  • सभी को मुंह पर रुमाल रखकर छींकने- खाँसने के लिए कहें।
  • अगर संभव है, तो बीमार दोस्तों, रिश्तेदारों को घर आने के लिए मना कर दें।
  • घर आये मेहमानों के लिए कभी भी सोते हुए शिशु को ना जगायें।
  • मेहमानों की वजह से शिशु को दूध पिलाना ना भूलें।
  • घर पर मेहमान आने पर भी हर थोड़ी देर में शिशु के पास जाकर उसे देखते रहें।
  • नवजात शिशु अपनी दिनचर्या के बारे में बहुत संवेदनशील होते हैं, इसलिए किसी भी हाल में उनके खाने, पीने, सोने की दिनचर्या में अचानक बदलाव ना करें। अगर शिशु को सोना है, तो मेहमानों से विदा लेकर शिशु को सुला दें।

नवजात शिशु की देखभाल: घर पर मेहमान आने पर माँ को क्या सावधानियां बरतनी चाहिए?

(Newborn baby care in hindi: ghar pe guest aane par ma ko kya savdhaniya rakhni chahiye)

newborn visitors

  • मेहमानों के लिए घर को सजाने की फ़िक्र ना करें, प्रसव के बाद माँ का शरीर काफी थक जाता है, ऐसे में अभी आपके लिए यही बेहतर होगा कि आप पर्याप्त आराम करें।
  • फिलहाल केवल अपनी फ़िक्र करें, सभी के लिए नाश्ता- खाना वगैरह बनाने में खुद को व्यस्त ना रखें।
  • अगर संभव हो, तो मेहमानों को उस समय बुलाएं जब आपके पास उनसे मिलने का समय हो।
  • ज्यादा मेकअप का उपयोग करने से बचें, फेसवॉश से मुंह धोकर एक साफ ड्रेस पहनकर भी आपका काम चल सकता है।
  • अगर आप थकी हुई हैं, तो मेहमानों की वजह से खुद को जगा कर ना रखें। सबसे बेहतर यही है कि आप अपने पति या परिवार के किसी और सदस्य से मेहमानों को संभालने के लिए कहें और खुद बच्चे के साथ सोने के लिए चली जाएं।
  • अगर कोई मेहमान घर के कामों में, जैसे खाना बनाने में आपकी मदद करना चाहे, तो उन्हें मना ना करें। इस समय घरवालों की थोड़ी मदद लेने में कोई बुराई नहीं है।
  • सबको खुश रखने के चक्कर में ज्यादा काम करके ख़ुद को ना थकाएं, फिलहाल आपको आराम करने की ज़रूरत है। इसलिए जितना हो सकता है, उतना काम करें और खुश रहें।
  • बच्चे के जन्म के बाद घर पर मेहमानों का आना जाना लगा रहता है, इसलिए कोशिश करें कि एक मेहमान के साथ सीमित समय ही बिताया जाए। वरना आपको आराम और बाकी ज़रूरी काम करने का समय नहीं मिल पायेगा।

नवजात शिशु की देखभाल: अगर किसी नई माँ व शिशु से मिलने जा रहे हैं, तो किन बातों का ध्यान रखें?

(Newborn baby care in hindi: newborn baby se milne jate vaqt kin bato ka dhyan rakhe)

shishu ki dekhbhal

अक्सर हमारे परिवार में किसी ना किसी के घर में नई संतान का जन्म होता रहता है, और हमारे मन में नवजात शिशु को देखने की बहुत इच्छा होती है। ऐसे में हम नई माँ और शिशु से मिलने की योजना बनाने लगते हैं, लेकिन नई माँ से मिलने जाने से पहले ये ज़रूरी बातें जान लें-

  • बिना बताए ना जाएं- बिना बताए कभी भी नई माँ से मिलने ना जाएं, क्योंकि प्रसव के बाद नए माता पिता का घर अक्सर बिखरा बिखरा रहता है। ऐसे में अगर आपको उनसे मिलना है, तो एक बार बच्चे के माता या पिता को बता दें, ताकि वो आपसे मिलने की तैयारी कर सकें।

  • खाली हाथ ना जाएं- नई माँ बहुत ज्यादा थकी हुई होती है और घर आये मेहमानों के लिए खाना बनाना उसे परेशान कर सकता है। ऐसे में अगर आप नवजात शिशु की माँ से मिलने जा रहे हैं, तो साथ में कुछ खाने की चीजें उपहार के रूप में ले जाएं। इससे माँ को खाना नहीं बनाना पड़ेगा और वो आपके साथ बैठकर आराम से बातें कर पायेगी। अगर आप खाना नहीं ले जाना चाहते तो कुछ अन्य जरूरी चीजें जैसे डायपर, बेबी वाइप्स, बच्चों के खिलौने, आदि ले जा सकते हैं।

  • बिना मांगे सलाह ना दें- अक्सर कुछ लोग अपने अनुभव का फायदा नए माता पिता को भी देने की इच्छा रखते हैं, लेकिन आप ऐसा तभी करें, जब आपसे माता या पिता किसी विषय पर सलाह मांगें। बिना मांगे उन्हें सलाह ना दें, क्योंकि अक्सर सभी उन्हें इस तरह की सलाह देते रहते हैं, इससे माता पिता को अच्छा नहीं लगता।

  • झुंड में शिशु से मिलने ना जाएं- कई माता पिता अपने बच्चे को लेकर बहुत ज्यादा संवेदनशील होते हैं और वो नहीं चाहते कि उनकी इजाज़त के बिना कोई उनके बच्चे के पास आये। ऐसे में माँ-बच्चे से मिलने जाते समय झुंड में (जैसे दोस्तों के साथ, अपने बच्चों के साथ आदि) ना जाएं, इससे माता पिता असहज महसूस कर सकते हैं। इसके अलावा एक साथ इतने मेहमान घर आने से उन पर काम का बोझ भी बहुत बढ़ जाता है। अगर किसी कारण से आप अपने दोस्तों के साथ या कुछ और लोगों के साथ माँ-बच्चे से मिलने जा रहे हैं, तो घर के कामों में नए माता पिता की सहायता करके उन्हें आराम दें। इससे उन्हें अच्छा लगेगा और उन्हें इतने सारे मेहमानों की देखभाल करने का तनाव भी नहीं होगा।

  • अगर आप बीमार हैं तो मिलने ना जाएं- अगर आपकी तबियत ठीक नहीं है, तो कुछ दिन माँ-बच्चे से आपका ना मिलना ही ठीक रहेगा। इसलिए आपकी तबियत पूरी तरह से ठीक होने के बाद ही नवजात शिशु को देखने जाएं।

  • अंतिम समय प्लान ना बदलें- अगर आपने माँ से कहा है कि आप उनके घर शाम पांच बजे आएंगे, तो उन्हें तीन बजे फोन करके ये ना कहें कि आप पांच की जगह चार बजे आएंगे। असल में माँ को अपनी नई दिनचर्या में ढलने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ती है और ऐसे में आपसे मिलने के लिए वो मुश्किल से वक़्त निकाल पाती है। लेकिन अगर आप अचानक प्लान बदलते हैं, तो माँ की दिनचर्या गड़बड़ा सकती है, इसे कोई भी पसन्द नहीं करेगा।

  • बड़े बच्चों के लिए भी तोहफे ले जाएं- घर में नवजात शिशु आने के बाद अक्सर सभी का ध्यान उन्ही पर केंद्रित हो जाता है। इससे उसके बड़े भाई या बहन को बुरा महसूस हो सकता है, इसलिए अगर आप किसी ऐसी माँ से मिलने जा रहे हैं, जिसके और भी बच्चे हैं तो उनके लिए भी कोई उपहार या खाने का सामान ले जाएं। इससे उन्हें अच्छा लगेगा।

नवजात शिशु की देखभाल: नई माँ- शिशु से मिलने जाते वक्त ये 8 काम बिल्कुल ना करें

(Newborn baby care in hindi: nayi ma aur baby se milne jate vaqt ye 8 kam bilkul na kare)

nawjat shishu ki dekhbhal

अगर आप किसी नवजात शिशु से मिलने जा रहे हैं, तो एक बार जान लें कि नवजात शिशु से मिलने जाते वक्त आपको क्या नहीं करना चाहिए

  1. नवजात शिशु की देखभाल (newborn baby care in hindi)- शिशु को होठों पर ना चूमें- शिशु इतने ज्यादा प्यारे होते हैं, कि उन्हें मिलने वाले सबसे पहले उनके गालों या होंठों को चूम लेते हैं। लेकिन आप खुद को बच्चे के होंठ चूमने से रोकें, ऐसा करने का पहला कारण यह है कि छोटे शिशु को इससे संक्रमण हो सकता है। हमारी त्वचा पर ऐसे कीटाणु होते हैं, जो हमारे लिए भले ही हानिकारण ना हों, लेकिन ये नवजात शिशु के लिए घातक हो सकते हैं। इसके अलावा कुछ माता पिता को यह पसन्द नहीं आता है कि कोई उनकी इच्छा के बिना शिशु को चूमे।
  2. नवजात शिशु की देखभाल (newborn baby care in hindi)- नई माँ-शिशु के सामने धूम्रपान ना करें- नवजात शिशु बहुत ज्यादा नाज़ुक होते हैं, उनके फेंफड़े अविकसित होते हैं, और धूम्रपान करने से उनके स्वास्थ्य को गंभीर नुकसान हो सकता है। इसलिए नवजात शिशु को देखने जाएं तो वहाँ धूम्रपान ना करें।
  3. नवजात शिशु की देखभाल (newborn baby care in hindi)- गोद में बच्चा लेने के बाद हाथ में गर्म या ठंडा पेय पदार्थ ना पकड़ें- माना कि आप कभी अपने हाथों से कुछ नहीं गिराते हैं, लेकिन फिर भी अगर आपने अपनी गोद में नवजात शिशु को ले रखा है तो हाथों में गर्म या ठंडा पेय पदार्थ जैसे कॉफी, चाय, सूप,कोल्ड ड्रिंक आदि ना लें। गलती से भी नवजात शिशु के ऊपर गर्म पेय गिरने से उसे गंभीर नुकसान हो सकता है। इसलिए बेहतर यही है कि, या तो आप शिशु को गोद में लें या चाय पीयें।
  4. नवजात शिशु की देखभाल (newborn baby care in hindi)- बिना हाथ धोए शिशु को ना पकड़ें- भले ही आपको आपके हाथ बिल्कुल साफ दिखाई दें, लेकिन उनमें लाखों कीटाणु मौजूद होते हैं। इसलिए नवजात शिशु को छूने से पहले अपने हाथों को एंटीबायोटिक साबुन से अच्छी तरह साफ करें और फिर शिशु को पकड़ें, वरना शिशु की बीमारियों से लड़ने की शक्ति कमजोर होने की वजह से वो बीमार हो सकता है।
  5. नवजात शिशु की देखभाल (newborn baby care in hindi)- सोते हुए नवजात को बिल्कुल ना जगायें- नवजात शिशु दिनभर में करीब 18 घण्टे सोते हैं, और ये नींद उनके विकास के लिए बहुत ज्यादा जरूरी होती है। बेवजह जागने पर शिशु चिड़चिड़ा हो सकता है और उसे दोबारा सुलाना माँ के लिए मुश्किल हो सकता है। इसलिए अगर आप नवजात शिशु को देखने जा रहे हैं, और वहाँ आपको बच्चा सोता हुआ मिले तो किसी भी हालत में उसे ना जगायें।
  6. नवजात शिशु की देखभाल (newborn baby care in hindi)- बहुत ज्यादा देर तक ना ठहरें- नए माता पिता अपने नवजात शिशु की देखभाल में बहुत ज्यादा व्यस्त रहते हैं, जिसकी वजह से उन्हें ठीक से सोने या आराम करने का समय भी नहीं मिलता है। इसलिए जब आप किसी शिशु व माँ को देखने जा रहे हैं, तो वहाँ डेढ़- दो घण्टे से ज्यादा ना ठहरें, ताकि माता पिता की नियमित दिनचर्या में बाधा ना आये। थोड़ी देर में मुलाकात ख़त्म करके आने का सबसे बेहतर तरीका यही है कि पहले आराम से सभी के हालचाल पूछें, उन्हें कुछ खिलायें, बच्चे को उपहार दें, और फिर थोड़ी बहुत बातें करके वापिस आ जाएं।
  7. नवजात शिशु की देखभाल (newborn baby care in hindi)- गंदगी छोड़कर ना आएं- अगर आप किसी माँ और उसके नवजात शिशु से मिलने जा रहे हैं, तो वापिस आते समय घर गंदा ना छोड़कर आएं। कोशिश करें कि माँ को आपकी वज़ह से कोई अतिरिक्त काम ना करना पड़े। आप गिफ्ट और खाने की चीजें समेटकर डस्टबिन में भी डाल देंगे या अपना चाय का कप खुद साफ कर देंगे तो यह माँ के लिए बड़ी मदद होगी।
  8. नवजात शिशु की देखभाल (newborn baby care in hindi)- रोते हुए बच्चे को गोद में थामे ना रहें- जैसे ही बच्चा रोने लगे, उसे तुरंत उसके माता पिता को सौंप दें। शायद बच्चे को भूख लगी हो, या फिर उसने सूसू पॉटी कर दी हो, या फिर शिशु को माँ के पास जाना जो, वज़ह चाहे जो भी हो अगर बच्चा आपकी गोद में रो रहा है, तो उसे पकड़े ना रहें। वैसे भी बच्चा अगर रो रहा है, तो माँ उसे अपनी गोद में लेने के लिए बेचैन हो जाती है।

बीमारियों के ख़तरे से बचाने के लिए नवजात शिशु की देखभाल के दौरान खास सावधानियां बरतना ज़रूरी है। कुछ विशेष बातों का ध्यान रखने से घर आए मेहमानों को खुश रखने के साथ ही आप शिशु की सेहत भी सही रख पाएंगे। अगर आप किसी नई माँ के घर मेहमान बनकर जा रहे हैं, ब्लॉग में बताई गई बातों का ख़याल रखें और कोशिश करें कि आपकी वजह से शिशु या नई माँ को किसी भी तरह की तकलीफ ना हो।

इस ब्लॉग के विषय - नवजात शिशु की देखभाल: क्या बच्चे को मेहमानों की गोद में दे सकते हैं? (Newborn baby care in hindi: kya baby ko mehmano ki god me de sakte hain),नवजात शिशु की देखभाल: घर पर मेहमान आने पर नवजात शिशु को लेकर क्या सावधानियां बरतें? (Newborn baby care in hindi: ghar par guest aane par baby ke liye kya savdhaniya barte),नवजात शिशु की देखभाल: घर पर मेहमान आने पर माँ को क्या सावधानियां बरतनी चाहिए? (Newborn baby care in hindi: ghar pe guest aane par ma ko kya savdhaniya rakhni chahiye),नवजात शिशु की देखभाल: अगर किसी नई माँ व शिशु से मिलने जा रहे हैं, तो किन बातों का ध्यान रखें? (Newborn baby care in hindi: newborn baby se milne jate vaqt kin bato ka dhyan rakhe),नवजात शिशु की देखभाल: नई माँ- शिशु से मिलने जाते वक्त ये 8 काम बिल्कुल ना करें (Newborn baby care in hindi: nayi ma aur baby se milne jate vaqt ye 8 kam bilkul na kare)
नए ब्लॉग पढ़ें
Healofy Proud Daughter