फर्टिलिटी बढ़ाने के 10 घरेलू उपाय (home remedies to increase fertility in Hindi)

फर्टिलिटी बढ़ाने के 10 घरेलू उपाय (home remedies to increase fertility in Hindi)

फर्टिलिटी बढ़ाने के 10 घरेलू उपाय (10 home remedies to increase fertility in hindi)

लंबे समय तक प्रजनन क्षमता में कमी की वजह से महिलाओं को इनफर्टिलिटी यानी बांझपन का सामना करना पड़ सकता है। एेसे में आप प्रजनन क्षमता में वृद्धि या फर्टिलिटी बढ़ाने के लिए घरेलू उपाय (home remedies to increase fertility in hindi) आज़मा सकती हैं।

इस ब्लॉग में ऐसे 10 सामान्य घरेलू उपायों के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है, जिनसे आपकी प्रजनन क्षमता में वृद्धि होने के साथ ही, आपको स्वस्थ गर्भधारण में भी मदद मिलेगी।

1. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: सेहतमंद भोजन खाएं

(home remedies to increase fertility in hindi: sehatmand bhojan khaye)

Home remedies to increase fertility - Ayurveda

जब महिलाओं में फर्टिलिटी यानी प्रजनन शक्ति (fertility in hindi) बढ़ाने की बात आती है, तो सबसे पहले उन्हें सेहतमंद और पौष्टिक भोजन खाने की सलाह दी जाती है। एेसी कई चीजें होती हैं, जो आपको खाने में स्वादिष्ट लग सकती हैं, लेकिन इनसे आपकी फर्टिलिटी यानी प्रजनन क्षमता पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

इसीलिए खाने की वस्तुओं और उनकी मात्रा का चयन अपने डॉक्टर की सलाह लेकर ही करें। अपने भोजन में हरी सब्जियां, फल, दाल व फलियां, साबुत अनाज, डेयरी उत्पाद और सूखे मेवे आदि शामिल करें।

2. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: नियमित रूप से व्यायाम करें

(home remedies to increase fertility in hindi: regular exercise kare)

Home remedies to increase fertility - Exercise

गर्भवती होने के लिए महिला को खुद को शारीरिक रूप से स्वस्थ रखना चाहिए। इसके लिए उसे नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए। इससे महिला की प्रजनन क्षमता में वृद्धि होने के साथ ही, उसे स्वस्थ गर्भधारण में भी मदद मिलती है।

आप घर पर कुछ सामान्य व्यायाम कर सकती हैं। इनमें मुख्य रूप से-

  • तेज चलना (brisk walking in hindi)

  • दौड़ना (running in hindi)

  • साइकिलिंग (cycling in hindi)

  • स्विमिंग (swimming in hindi)

  • डांसिंग (dancing in hindi) आदि शामिल हैं।

    (याद रखें- प्रेगनेंसी की तैयारी करने वाली जिन महिलाओं को स्वास्थ्य संबंधी अन्य समस्याएं हैं, वे एक्सरसाइज करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह ज़रूर लें।)

3. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: जीवनशैली में बदलाव लाएं

(home remedies to increase fertility in hindi: lifestyle me badlav laye)

Home remedies to increase fertility - Lifestyle me badlav

स्वस्थ गर्भधारण के लिए महिलाओं को अपनी जीवनशैली में बदलाव करनी चाहिए। शोध बताते हैं कि अस्वस्थ जीवनशैली से महिलाओं को इनफर्टिलिटी यानी बांझपन का सामना करना पड़ सकता है।

रोजाना नियमित समय पर उठने, स्वस्थ भोजन खाने एवं थोड़ी एक्सरसाइज करने से आपकी जीवनशैली बेहतर होगी और आपकी प्रजनन क्षमता (fertility in hindi) बढ़ेगी। अगर आप प्रेगनेंसी की तैयारी कर रही हैं, तो अपने हर काम के लिए उचित समय का निर्धारण करें और रोजाना उसी दिनचर्या का पालन करें।

4. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: वजन पर नियंत्रण रखें

(home remedies to increase fertility in hindi: vajan par niyantran rakhe)

Home remedies to increase fertility - Vajan

भारत में ज्यादातर महिलाओं की प्रजनन क्षमता में कमी का कारण उनका अधिक वजन होना होता है। इसीलिए प्रेगनेंसी की तैयारी करने वाली महिलाओं को अपने वजन पर नियंत्रण रखना चाहिए। विशेषज्ञ कहते हैं कि जब महिलाओं का वजन नियंत्रण में रहता है, तो उनके प्रजनन अंग अच्छे से काम करते हैं, जिससे ओवुलेशन बिना किसी रूकावट के हो सकता है।

कई बार शारीरिक समस्याओं और आनुवांशिक कारणों की वजह से महिलाओं का वजन अनियंत्रित रूप से बढ़ने लगता है। ऐसी किसी भी समस्या की अाशंका होने पर तुरंत अपने डॉक्टर की सलाह लें।

5. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: भरपूर नींद लें

(home remedies to increase fertility in hindi: bharpur nind le)

Home remedies to increase fertility - Neend

पर्याप्त नींद न लेने का असर महिलाओं के यौन स्वास्थ्य पर पड़ सकता है। प्रेगनेंसी की तैयारी कर रही महिलाएं अगर भरपूर नींद न लें तो इससे उनके शरीर में हार्मोनों का स्तर गड़बड़ा सकता है। इसका सीधा प्रभाव उनके ओवुलेशन पर पड़ता है।

एक हालिया शोध के अनुसार, नींद पूरी न होने की वजह से महिलाओं के शरीर में मेलाटोनिन एवं सेरोटोनिन हॉर्मोन्स का स्तर कम हो सकता है, जिससे उनका लुटियल चरण यानी ओवुलेशन से मासिक धर्म तक का समय कम हो सकता है। इससे गर्भधारण करने की संभावना कम हो सकती है।

दूसरी ओर, अपर्याप्त नींद से एड्रिनल ग्रंथि (adrenal gland in hindi) का काम सुचारू रूप से नहीं हो पाता है और रक्त में इंसुलिन का स्तर कम हो जाता है। यह गर्भधारण के लिए हानिकारक हो सकता है। नींद न आना कई बीमारियों का संकेत भी हो सकता है, इसीलिए लगातार दो दिनों तक नींद न आने पर अपने डॉक्टर की सलाह लें।

6. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: रासायनिक पदार्थों से दूर रहें

(home remedies to increase fertility in hindi: chemical products se dur rahe)

Home remedies to increase fertility - Chemical Products

गर्भधारण से पहले अत्यधिक मात्रा में रासायनिक पदार्थों का इस्तेमाल करना आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। इनमें मुख्य रूप से बिसफेनोल ए यानी बीपीए (bisphenol A in hindi) नामक रासायनिक पदार्थ से बनी बोतलें, कैमिकल युक्त ब्यूटी प्रोडक्ट्स, खुशबूदार टैम्पोन्स, वजाइनल स्प्रे एवं कृत्रिम लुब्रीकेंट आदि शामिल हैं।

रासायनिक पदार्थों के उपयोग से महिला के शरीर का पीएच बैलेंस बिगड़ सकता है। कई बार ये सर्वाइकल म्यूकस को भी नुकसान पहुंचा सकते हैं। इनसे महिला को पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (pelvic inflammatory disease in hindi) हो सकती है। कुल मिलाकर ये सभी चीजें महिला की प्रजनन क्षमता में बाधा उत्पन्न कर सकती हैं। इसलिए अगर आप गर्भधारण करना चाहती हैं, तो इनसे दूरी बनाकर रखें।

7. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: तनाव से दूर रहें

(home remedies to increase fertility in hindi: tanav se dur rahe)

Home remedies to increase fertility - tanav se dur

शोध बताते हैं कि तनाव, चिंता और अवसाद के कारण हर साल लगभग 30 प्रतिशत महिलाओं की प्रजनन क्षमता (fertility in hindi) कम हो जाती है।

विशेषज्ञ कहते हैं कि अगर प्रेगनेंसी की तैयारी करने वाली महिलाओं में तनाव बढ़ता है, तो इससे उनकी प्रजनन क्षमता कम हो सकती है। दरअसल, अत्यधिक चिंता के कारण महिलाओं के शरीर में विभिन्न प्रकार के हार्मोनल बदलाव होते हैं, जिनका दुष्प्रभाव ओवुलेशन पर पड़ता है और उन्हें गर्भधारण करने में परेशानी हो सकती है।

इसीलिए स्वस्थ गर्भधारण करने के लिए तनाव और चिंता से दूर रहें। जरूरत पड़ने पर तनाव से छुटकारा पाने के लिए अपने डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

8. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: फूड सप्लीमेंट्स लें

(home remedies to increase fertility in hindi: food supplements le)

Home remedies to increase fertility - Food supplements

यूं तो महिलाओं में प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए उन्हें सेहतमंद व पौष्टिक भोजन खाने की सलाह दी जाती है। लेकिन, जब भोजन से उन्हें पर्याप्त पोषण नहीं मिल पाता है, तो डॉक्टर उन्हें फूड सप्लीमेंट्स यानी पोषक तत्वों की पूर्ति करने वाली दवाएं देते हैं। इनमें मुख्य रूप से फोलिक एसिड, विटामिन, आयरन आदि की गोलियां शामिल है।

इन फूड सप्लीमेंट्स से महिला के शरीर में प्रजनन क्षमता (फर्टिलिटी) व ओवुलेशन से संबंधित समस्याएं कम होती है, और गर्भधारण में सहायता मिलती है। इन सप्लीमेंट्स को लेने से पहले अपने डॉक्टर से इनकी उचित मात्रा की जानकारी अवश्य ले लें। इसके साथ ही डॉक्टर की सलाह के बिना इन फूड सप्लीमेंट्स की दवाओं को न लें।

9. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: भोजन में जिंक युक्त चीजें लें

(home remedies to increase fertility in hindi: bhojan me zinc yukt chije le)

Home remedies to increase fertility - Zinc

जिंक महिलाओं के प्रजनन तंत्र को स्वस्थ एवं सुचारू रखने वाला एक महत्वपूर्ण कारक होता है। इसकी कमी से आपको गर्भधारण करने में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

विशेषज्ञ कहते हैं कि जिंक एक एेसा पोषक तत्व है, जो शरीर में लगभग 300 प्रकार के एंजाइम्स के साथ मिलकर काम करता है और महिलाओं को गर्भधारण करने में मदद करता है। इसके अलावा महिलाओं के शरीर में जिंक की उचित मात्रा, ओवुलेशन, उचित फोलिकुलर तरल स्तर और हार्मोन्स का संतुलन बनाये रखने में सहायक होती है।

महिलाओं के शरीर में जिंक की कमी होने पर विभिन्न प्रकार की समस्याएं हो सकती हैं, इनमें भ्रूण के उत्तकों का ढंग से विकास न होना, एस्ट्रोजेन-प्रोजेस्टेरोन हार्मोन्स का असंतुलन एवं प्रजनन तंत्र का सुचारू रूप से काम न करना शामिल है।

10. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: आयुर्वेद अपनाएं

(home remedies to increase fertility in hindi: ayurveda apnaye)

Home remedies to increase fertility - Ayurveda

फर्टिलिटी बढ़ाने के लिए आयुर्वेद को सबसे प्रभावशाली माना जाता है। आयुर्वेद में एेसे कई नुस्खे हैं, जिनसे महिलाओं की प्रजनन क्षमता बढ़ने के साथ ही उन्हें ओवुलेशन में भी मदद मिलती है। नीचे इनका उल्लेख विस्तार से किया जा रहा है-

  • अश्वगंधा (ashwagandha)- यह महिलाओं को शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रखने में मदद करता है। इसके साथ ही अश्वगंधा प्रजनन क्षमता की वृद्धि में भी सहायक होता है। एक ओर इससे महिला के शरीर में हार्मोनों का संतुलन बना रहता है, वहीं दूसरी ओर इससे उन्हें तनाव एवं चिंता से मुक्ति मिलती है। इसके साथ ही यह महिलाओं की बीमारियों से लड़ने की क्षमता को भी बढ़ाने में सहायक होता है।

    विधि- एक गिलास गुनगुने पानी में एक चम्मच अश्वगंधा का पाउडर मिलाएं और पी लें।

    • बेहतर प्रजनन क्षमता के लिए रोजाना इसे दो बार पीएं।
    • इसे हमेशा भोजन के बाद ही पीएं।

    (याद रखें- अत्यधिक मात्रा में अश्वगंधा लेना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। इसीलिए डॉक्टर की सलाह से ही इसे सीमित मात्रा में ही लें और प्रेगनेंट होने के बाद इसे लेना बंद कर दें। साथ ही हाइपर थायराइड से जूझ रहीं महिलाओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।)

  • शतावरी (shatavari)- भारत में पिछले कई वर्षों से शतावरी का इस्तेमाल महिलाओं में इनफर्टिलिटी यानी बांझपन दूर करने के लिए किया जाता रहा है। यह महिलाओं में हार्मोनों का संतुलन बनाए रखने में मदद करता है, जिससे उनकी प्रजनन क्षमता में वृद्धि होती है और वे गर्भधारण कर सकती हैं। इसके अलावा शतावरी से सर्विकल म्यूकस की मात्रा बढ़ती है, जिससे शुक्राणु अासानी से गर्भाशय तक पहुंच सकते हैं।

    विधि- आमतौर पर बाजार में शतावरी तीन रूपों में उपलब्ध है, जिनमें कैप्सूल, लिक्विड और पाउडर शामिल है।

    • एक गिलास गरम दूध में एक से दो ग्राम शतावरी पाउडर मिलाएं।
    • इसे अच्छी तरह घोल लें और पी लें।
    • इसी तरह आप दूध के साथ कैप्सूल भी ले सकती हैं।
    • डॉक्टर आपको लिक्विड शतावरी पीने का तरीका बता सकते हैं।

    (याद रखें- इसे अपने शरीर की जरूरतों के आधार पर डॉक्टर की सलाह से ही लें और आयुर्वेद विशेषज्ञ से इसकी उचित मात्रा की जानकारी अवश्य ले लें।)

  • अरण्डी का तेल (castor oil in hindi)- अरण्डी का तेल यानी कैस्टर अॉयल महिलाओं की प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है। यह महिला के शरीर में मौजूद विषैले पदार्थों को बाहर निकालने, एंडोमेट्रियम की वृद्धि, फैलोपियन ट्यूब स्वस्थ रखने और ओवुलेशन में सहायक होता है।

    विधि- एक कटोरी में अरण्डी का तेल लें।

    • उसमें करीब आधे घंटे के लिए एक कपड़ा डुबो कर रखें।
    • कपड़ा पूरी तरह भीग जाने के बाद उसे पीठ के निचले हिस्से में लगाएं और उस पर गरम पानी का बैग (हॉट वाटर बैग) रखें।
    • इससे तेल का असर प्रजनन अंगों तक पहुंच पाएगा।
    • करीब एक घंटे के बाद बैग व कपड़े को हटा लें और पीठ पर मौजूद तेल को हल्के हाथों से घिस लें।

    (याद रखें- अरण्डी के तेल का इस्तेमाल केवल शरीर के बाहरी हिस्सों पर ही करें, इसे पीने की कोशिश न करें। इसके अलावा मासिक धर्म के समय अगर आपको ज्यादा रक्तस्राव होता है, तो उन दिनों में इसका इस्तेमाल न करें। ज्यादा जानकारी के लिए अायुर्वेद विशेषज्ञ की सलाह लें।)

  • दालचीनी- महिलाओं में पीसीओएस यानी पॉलिसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (polycystic ovary syndrome in hindi) की समस्या बहुत आम है। यह एक हार्मोनल स्थिति है, जिससे महिला के अंडाशयों की कार्यप्रणाली प्रभावित होती है और उसे गर्भधारण में परेशानी होती है। गर्भवती होने से पहले रोजाना दालचीनी के उपयोग से महिलाओं की पीसीओएस की समस्या नियंत्रण में रहती है और उनकी प्रजनन क्षमता में वृद्धि होती है। दालचीनी से एंडोमेट्रिओसिस (endometriosis in hindi), यूटेराइन फाइब्रॉयड (uterine fibroid in hindi), असामान्य मासिक धर्म (irregular period in hindi) और यीस्ट संक्रमण (yeast infection in hindi) से भी राहत मिल सकती है।

    विधि- एक कप में गरम पानी लें।

    • उसमें एक छोटा चम्मच दालचीनी का पाउडर मिलाएं।
    • इस मिश्रण को अच्छी तरह घोल लें और पी लें।
    • इस मिश्रण को कम से कम महीने भर के लिए दिन में एक बार पीएं।
    • इसके अलावा आप दालचीनी का उपयोग भोजन की अन्य वस्तुओं में कर सकती हैं। इसे दही या ओटमील में मिलाकर भी खाया जा सकता है।
  • माका रूट- बीते कई वर्षों से माका रूट का इस्तेमाल सब्जी के रूप में किया जाता रहा है। हाल ही में किए गए कुछ शोधों में पाया गया है कि यह महिलाओं में फर्टिलिटी संबंधी समस्याओं को दूर करने में मदद करती है। हाइपो थाइरायड की समस्या से जूझ रही महिलाओं के लिए यह बेहद लाभकारी होती है। माका रूट के इस्तेमाल से महिला के शरीर में थाइराड हार्मोन्स का संतुलन बना रहता है, जिससे उसकी प्रजनन क्षमता बढ़ती है।

    विधि- माका रूट, पाउडर के रूप में बाजार में उपलब्ध है।

    • एक कप हल्के गरम पानी में एक चौथाई चम्मच माका रूट का पाउडर मिलाएं।
    • इस मिश्रण को अच्छी तरह घोल लें और पी लें।
    • करीब महीने भर के लिए इसे दिन में एक बार जरूर पीएं।
    • आप इसे ओटमील और जूस में भी मिलाकर ले सकती हैं।

    (याद रखें- यदि आप प्रेगनेंट हैं, तो माका रूट किसी भी प्रकार से न लें। माका रूट के इस्तेमाल से पहले अपने आयुर्वेद विशेषज्ञ से सलाह ज़रूर लें।)

  • बरगद के पेड़ की छाल- आयुर्वेद में महिलाओं के प्रजनन अंगों संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए बरगद के पेड़ की छाल का इस्तेमाल किया जाता रहा है। इससे उनकी प्रजनन क्षमता भी बढ़ती है।

    विधि- बरगद के पेड़ की छाल के एक छोटे टुकड़े को अच्छी तरह धोकर पीस लें।

    • इस पेस्ट को एक कप गरम पानी या दूध में मिलाएं और पी लें।
    • स्वाद के लिए आप इसमें थोड़ी मात्रा में चीनी भी मिला सकती हैं।
    • रोजाना सुबह खाली पेट इसका सेवन करें।

    (याद रखें- मासिक धर्म में इसे नहीं लिया जाना चाहिए। इसके सेवन से पहले, किसी आयुर्वेद डॉक्टर से इसकी उचित मात्रा की जानकारी ले लें।)

अगर आपको गर्भधारण करने में समस्या हो रही है, तो इसका कारण आपकी प्रजनन क्षमता की कमी हो सकती है। इस समस्या को दूर करने के लिए आप ब्लॉग में दिए गए प्रजनन क्षमता या फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय (home remedies to increase fertility in hindi) आज़मा सकती हैं।

अगर इन उपायों को आज़माने के बावजूद भी आप गर्भधारण नहीं कर पा रही हैं, तो इसके पीछे कोई गंभीर समस्या भी हो सकती है। इस बारे में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

इस ब्लॉग के विषय - 1. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: सेहतमंद भोजन खाएं (home remedies to increase fertility in hindi: sehatmand bhojan khaye)2. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: नियमित रूप से व्यायाम करें (home remedies to increase fertility in hindi: regular exercise kare)3. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: जीवनशैली में बदलाव लाएं (home remedies to increase fertility in hindi: lifestyle me badlav laye)4. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: वजन पर नियंत्रण रखें (home remedies to increase fertility in hindi: vajan par niyantran rakhe)5. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: भरपूर नींद लें (home remedies to increase fertility in hindi: bharpur nind le)6. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: रासायनिक पदार्थों से दूर रहें (home remedies to increase fertility in hindi: chemical products se dur rahe)7. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: तनाव से दूर रहें (home remedies to increase fertility in hindi: tanav se dur rahe)8. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: फूड सप्लीमेंट्स लें (home remedies to increase fertility in hindi: food supplements le)9. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: भोजन में जिंक युक्त चीजें लें (home remedies to increase fertility in hindi: bhojan me zinc yukt chije le)10. फर्टिलिटी बढ़ाने के घरेलू उपाय: आयुर्वेद अपनाएं (home remedies to increase fertility in hindi: ayurveda apnaye)
नए ब्लॉग पढ़ें