क्या प्रेगनेंसी में यात्रा कर सकते हैं? (Kya pregnancy me yatra kar sakte hai)

क्या प्रेगनेंसी में यात्रा कर सकते हैं? (Kya pregnancy me yatra kar sakte hai)
प्रेगनेंसी में यात्रा को लेकर हर महिला के मन में ढेर सारे सवाल होते हैं, जिनमें से मुख्य सवाल तो यही होता है कि क्या इस दौरान यात्रा करनी चाहिए या नहीं। गर्भवती महिलाओं के लिए यह दौर काफी ज्यादा नाज़ुक होता है, जिसकी वजह से वें एक एक कदम फूंक कर रखती हैं, ताकि किसी भी तरह की परेशानियों से बचा जा सकें। हम इस ब्लॉग में आपको प्रेगनेंसी में यात्रा (pregnancy me yatra) से जुड़ी तमाम जानकारी देंगे। 1. क्या प्रेगनेंसी में यात्रा करनी चाहिए? (Kya pregnancy me yatra karni chahiye) 2. क्या प्रेगनेंसी में बाईक, स्कूटी या ऑटो से सफर करना चाहिए? (Kya pregnancy me bike, scooty ya auto se safar karna chahiye) 3. क्या प्रेगनेंसी में बस या कार से यात्रा करना सेफ है? (Kya pregnancy me bus ya car se yatra karna safe hai) 4. क्या प्रेगनेंसी में ट्रेन से यात्रा करनी चाहिए? (Kya pregnancy me train se yatra karni chahiye) 5. क्या प्रेगनेंसी में हवाई यात्रा करनी चाहिए? (Kya pregnancy me hawai yatra karni chahiye) 6. प्रेगनेंसी में किस स्थिति में यात्रा नहीं करनी चाहिए? (Pregnancy me kis condition me yatra nahi karna chahiye) 7. प्रेगनेंसी में सफर करने के लिए टिप्स (Pregnancy me safar karne ke liye tips) 1. क्या प्रेगनेंसी में यात्रा करनी चाहिए? (Kya pregnancy me yatra karni chahiye) आमतौर पर प्रेगनेंसी को तीन भागों में बांटते हैं, जिसे पहली, दूसरी और तीसरी तिमाही कहते हैं। प्रेगनेंसी की हर तिमाही में तरह तरह की सावधानियां बरतनी होती हैं, क्योंकि इन तीनों ही भागों की स्थितियां अलग होती हैं। ऐसे में हम आपको प्रेगनेंसी की किस तिमाही में यात्रा करनी चाहिए और किस तिमाही में नहीं करनी चाहिए, इससे रूबरू कराने जा रहे हैं -
  • क्या प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में यात्रा करना सेफ है? (Kya pregnancy ki pehli timahi me yatra karna safe hai)
प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में यात्रा करने से परहेज करना चाहिए, क्योंकि इस दौरान उल्टी आना, जी घबराना आदि परेशानियों की वजह से सफर खराब हो सकता है। इसके अलावा इस तिमाही में गर्भपात का खतरा अधिक होता है, इसलिए प्रेगनेंसी में यात्रा करने से पहले डॉक्टर की सलाह ज़रूर लें।
  • क्या प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही में यात्रा करना सही है? (Kya pregnancy ki dusri timahi me yatra karna sahi hai)
हां। प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही यात्रा करने के लिए सबसे बेहतर मानी जाती है, क्योंकि जहां पहली तिमाही में उल्टी, मिचली आदि की समस्या होती हैं, तो वहीं तीसरी तिमाही आखिरी चरण होता है, जिसमें परेशानियां बढ़ जाती हैं। ऐसे मेंं दूसरी तिमाही में यात्रा करना सुरक्षित है, लेकिन अगर प्रेगनेंसी में जटिलताएं (बीपी, शुगर, मोलर प्रेगनेंसी, एक्टोपिक प्रेगनेंसी, गर्भपात आदि) है तो डॉक्टर की सलाह के बाद ही सफर करें।
  • क्या प्रेगनेंसी की तीसरी तिमाही में यात्रा कर सकते हैं? (Kya pregnancy ki tisari timahi me yatra kar sakte hai)
डॉक्टर प्रेगनेंसी के आठवें और नौंवे महीनें में यात्रा करने के लिए पूरी तरह से मना करते हैं, क्योंकि यह गर्भावस्था का आखिरी चरण होता है और गर्भवती महिलाओं को कोई जोखिम नहीं उठाना चाहिए। इस दौरान गर्भवती महिलाओं को भरपूर आराम करना चाहिए, क्योंकि इस तिमाही में गर्भपात का खतरा बढ़ जाता है और डिलीवरी का समय भी नज़दीक होता है। हालांकि, अगर आपको यात्रा करना बहुत ज्यादा ज़रूरी है तो डॉक्टर से पूछ कर जा सकती हैं। 2. क्या प्रेगनेंसी में बाईक, स्कूटी या ऑटो से सफर करना चाहिए? (Kya pregnancy me bike, scooty ya auto se safar karna chahiye) प्रेगनेंसी में यात्रा करना किसी चुनौती से कम नहीं होता है, क्योंकि इस दौरान हर चीज़ का अच्छे से ख्याल रखना पड़ता है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं के मन में सवाल आता है कि क्या प्रेगनेंसी में बाईक, स्कूटी या ऑटो से सफर करना चाहिए या नहीं। प्रेगनेंसी में बाईक, स्कूटी या ऑटो से सफर करने से बचना चाहिए, क्योंकि सड़क पर ट्रैफिक और उबड़ खाबड़ रास्ते बहुत ज्यादा होते हैं, जिसकी वजह से गर्भवती महिलाओं को परेशानियों का सामना करना पड़ता है। प्रेगनेंसी में बाईक, स्कूटी या ऑटो आदि से सफर करना अगर बहुत ज्यादा ज़रूरी है, तो महिलाओं को खुद ड्राईविंग नहीं करनी चाहिए और न ही उन्हें एक तरफ पैर करके बैठना चाहिए। ध्यान दें - गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में गर्भवती महिलाओं को भूलकर भी बाईक, स्कूटी या ऑटो से सफर नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह किसी अनहोनी का कारण बन सकता है। 3. क्या प्रेगनेंसी में बस या कार से यात्रा करना सेफ है? (Kya pregnancy me bus ya car se yatra karna safe hai) प्रेगनेंसी की पहली और दूसरी तिमाही में बस या कार से गर्भवती महिलाएं यात्रा कर सकती हैं, क्योंकि यह स्कूटी, बाईक और ऑटो से ज्यादा सुरक्षित हैं, लेकिन तीसरी तिमाही में सफर करने से पूरी तरह से बचना चाहिए। गर्भावस्था की पहली और दूसरी तिमाही में अगर गर्भवती महिलाएं कार से यात्रा कर रही हैं, तो उन्हें निम्निलिखित सावधानियां बरतनी चाहिए -
  • प्रेगनेंसी में यात्रा पर जाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर बात कर लें और उन्हें अपने इस योजना के बारे में ज़रूर बताएं।
  • अगर आप कार से यात्रा कर रही हैं, तो सीट बेल्ट बांधना बिल्कुल न भूलें।
  • अगर आप कार से यात्रा कर रही हैं तो खुद ड्राइव करने से बचे, अगर संभव नहीं है तो अपने साथ किसी दूसरे व्यक्ति को ज़रूर ले जाएं।
  • अगर आप बस से सफर कर रही हैं, तो दूसरों से सीट मांगने में बिल्कुल संकोच न करें।
  • अपने साथ अपनी ज़रूरी दवाईयों को रखना बिल्कुल न भूलें।
  • ज्यादा लंबा सफर करने से बचें।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा पर जानेे से पहले अपने मोबाइल फोन को ज़रूर चार्ज कर लें।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा करने के दौरान अपने मोबाइल में पासवर्ड न लगाएं।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा (pregnancy me yatra) के दौरान थोड़ी थोड़ी देर में कुछ न कुछ ज़रूर खाते रहें।
4. क्या प्रेगनेंसी में ट्रेन से यात्रा करनी चाहिए? (Kya pregnancy me train se yatra karni chahiye) गर्भावस्था की पहली और दूसरी तिमाही में अगर गर्भवती महिलाओं को सफर करना है, तो वह ट्रेन का सहारा ले सकती हैं। इसके अलावा अगर कामकाजी महिला है, तो ऑफिस के लिए ट्रेन का सहारा ले सकती हैं। गर्भवती महिलाओं को ट्रेन से सफर करते वक्त कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए, जोकि निम्नलिखित हैं -
  • अगर आपको ट्रेन से दूर का सफर करना है, तो नीचे की सीट को ही बुक करें, अगर नीचे की सीट न हो, तो किसी से मांगे ।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा के दौरान शौचालय के पास वाली सीट का ही चुनाव करें।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा के दौरान चलती ट्रेन से उतरने की बिल्कुल भी कोशिश न करें।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा (pregnancy me yatra) पर जाने से पहले अपने डॉक्टर का नंबर ज़रूर अपने मोबाइल में सेव करें।
  • जिस दिशा में ट्रेन चल रही है, उसी दिशा में मुंह करके बैंठे, लेकिन अगर आपकी सीट विपरीत दिशा में हुई तो किसी से सीट ज़रूर मांगे।
  • अपने साथ अपनी ज़रूरी दवाईयों को अवश्य रखें।
  • आरामदायक जूतें या चप्पलें पहने, जिन्हें आप आसानी से चलती ट्रेन के अंदर पहनकर चल सकें।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा (pregnancy me yatra) के दौरान खाने की चीजों को अपने साथ ज़रूर रखें।
  • पानी की बोतल घर से ज़रूर लेकर जाएं, ताकि आपको स्टेशन पर उतरकर पानी न लेना पड़े।
  • ज़रूरी न हो तो अकेले सफर करने से बचें।
5. क्या प्रेगनेंसी में हवाई यात्रा करनी चाहिए? (Kya pregnancy me hawai yatra karni chahiye) गर्भावस्था की पहली, दूसरी और तीसरी तिमाही में हवाई यात्रा करना सुरक्षित है, लेकिन अगर गर्भवती महिलाएं तीसरी तिमाही में हवाई सफर करने के बारे में सोच रही हैं, तो उन्हें डॉक्टर से ज़रूर सलाह लेनी चाहिए। इसके अलावा आपको बता दें कि गर्भावस्था के नौवें महीने में एयरलाइंस भी सफर करने की अनुमति नहीं देती हैं। अगर प्रेगनेंसी में हवाई यात्रा करनी पड़े तो नीचे लिखी गयी सावधानियों को अपना कर गर्भवती महिलाएं इस यात्रा को और भी ज्यादा आरामदायक बना सकती हैं -
  • हमेशा बाहरी किनारे वाली सीट ही बुक करें, ताकि शौचालय जाने और पैर फैलाने में आसानी हो।
  • उड़ान भरने से पहले गैस वाली चीज़े न खाएं, जैसे - फूल गोभी और पत्ता गोभी, बीन्स, चने, प्याज, चकुंदर, मकई आदि।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा (pregnancy me yatra) पर जाने से पहले अपने साथ अपनी ज़रूरी दवाईयों को ज़रूर रखें।
  • पेट के नीचे ही सीट बेल्ट को बांधे।
6. प्रेगनेंसी में किस स्थिति में यात्रा नहीं करनी चाहिए? (Pregnancy me kis condition me yatra nahi karna chahiye) गर्भवती महिलाओं को निम्नलिखित स्थितियों में प्रेगनेंसी में यात्रा (pregnancy me yatra) करने से बचना चाहिए -
  • एनीमिया (anemia in hindi) होना
  • हृदय रोग होना
  • सांस फूलने की समस्या होना
  • शारीरिक चोट होना
7. प्रेगनेंसी में सफर करने के लिए टिप्स (Pregnancy me safar karne ke liye tips) प्रेगनेंसी में यात्रा करना आम दिनों के अपेक्षा थोड़ा जटिल होता है, ऐसे में गर्भवती महिलाओं को थोड़ी सावधानी बरतने की ज़रूरत होती है, ताकि उन्हें सफर के दौरान किसी परेशानी का सामना न करना पड़े। तो चलिए जानते हैं कि गर्भवती महिलाओं को यात्रा करते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए -
  • यात्रा के दौरान गर्भवती महिलाओं को आरामदायक कपड़े ही पहनना चाहिए।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा के समय गर्भवती महिलाओं को आरामदायक सीट का ही चुनाव करना चाहिए।
  • अगर आप बस से सफर कर रही हैं, तो खड़े होकर यात्रा करने से बचना चाहिए।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा के दौरान गर्भवती महिलाओं को अपने साथ खाने की चीज़ों को ज़रूर रखना चाहिए, जैसे - फल, बिस्कुट आदि।
  • जिस रास्ते से आप सफर कर रही हैं, उस रास्ते पर पड़ने वाले अस्पतालों को सरसरी निगाहों से ज़रूर देख लेना चाहिए।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा (pregnancy me yatra) करने से पहले डॉक्टर से ज़रूर सलाह लेनी चाहिए।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा करते समय ट्रैफिक वाली जगह पर कम से कम रहने की कोशिश करनी चाहिए।
  • देर शाम या रात को सफर करने से बचना चाहिए।
  • प्रेगनेंसी में यात्रा (pregnancy me yatra) के दौरान अगर आप असहज महसूस करें, तो थोड़ी देर के लिए रूक जाना चाहिए।
  • अगर आपकी सांस फूल रही है, तो सफर करने से बचना चाहिए।
  • अगर आप प्रेगनेंसी में यात्रा करने का सोच रही हैं और चक्कर आ रहे हैं, तो आपको सफर करने से बचना चाहिए।
प्रेगनेंसी में यात्रा (pregnancy me yatra) करते समय गर्भवती महिलाओं को अपना विशेष ध्यान रखना चाहिए, ताकि इस दौरान उन्हें किसी भी तरह की कोई परेशानी का सामना न करना पड़े। प्रेगनेंसी की पहली और दूसरी तिमाही में यात्रा करना तीसरी तिमाही की अपेक्षा कम जटिलताओं से भरा होता है, इसलिए तीसरी तिमाही में अगर जब भी गर्भवती महिला को सफर करना हो तो डॉक्टर की सलाह ज़रूर लें, क्योंकि इस दौरान आपकी एक लापरवाही आप पर काफी ज्यादा भारी पड़ सकती है।
इस ब्लॉग के विषय - 1.क्या प्रेगनेंसी में यात्रा करनी चाहिए? (Kya pregnancy me yatra karni chahiye),
  • क्या प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में यात्रा करना सही है? (Kya pregnancy ki pehli timahi me yatra karna sahi hai),
  • क्या प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही में यात्रा करना सही है? (Kya pregnancy ki dusri timahi me yatra karna sahi hai),
  • क्या प्रेगनेंसी की तीसरी तिमाही में यात्रा कर सकते हैं? (Kya pregnancy ki tisari timahi me yatra kar sakte hai),
2.क्या प्रेगनेंसी में बाईक, स्कूटी या ऑटो से सफर करना चाहिए? (Kya pregnancy me bike, scooty ya auto se safar karna chahiye), 3. क्या प्रेगनेंसी में बस या कार से यात्रा करना सेफ है? (Kya pregnancy me bus ya car se yatra karna safe hai), 4.क्या प्रेगनेंसी में ट्रेन से यात्रा करनी चाहिए? (Kya pregnancy me train se yatra karni chahiye), 5.क्या प्रेगनेंसी में हवाई यात्रा करनी चाहिए? (Kya pregnancy me hawai yatra karni chahiye), 6.प्रेगनेंसी में किस स्थिति में यात्रा नहीं करनी चाहिए? (Pregnancy me kis condition me yatra nahi karna chahiye), 7. प्रेगनेंसी में सफर करने के लिए टिप्स (Pregnancy me safar karne ke liye tips)
नए ब्लॉग पढ़ें
Healofy Proud Daughter