प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द : कारण, लक्षण और उपाय (Pregnancy me breast me pain : karan, lakshan aur gharelu upay)

प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द : कारण, लक्षण और उपाय (Pregnancy me breast me pain : karan, lakshan aur gharelu upay)

प्रेगनेंसी में जहां एक तरफ नन्हे मेहमान के आने की खुशियां होती हैं, तो वहीं दूसरी तरफ गर्भवती महिलाएं कई तरह की शारीरिक और मानसिक समस्याओं का सामना करती हैं। नन्हे मेहमान के आने की खुशी में गर्भवती महिलाएं हर दर्द को सरलता से झेल लेती हैं, जिनमें से एक है प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) का होना।

इस ब्लॉग में हम आपको गर्भावस्था के दौरान स्तनों में होने वाले दर्द से जुड़ी तमाम जानकारी देने जा रहे हैं।

प्रेगनेंसी में स्तनों में दर्द क्यों होता है?

(Pregnancy me breast me dard kyun hota hai)

breast pain reason

आमतौर पर प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) पहली तिमाही के दौरान होता है, लेकिन कुछ महिलाओं को यह पीड़ा तीसरी तिमाही में भी महसूस होती है। गर्भावस्था के दौरान स्तनों में दर्द होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं, जिनमें से कुछ महत्वपूर्ण कारण नीचे लिखे गये हैं -

Breast pain in pregnancy in hindi: हार्मोन्स में बदलाव होना

प्रेगनेंसी के दौरान शिशु के विकास के लिए गर्भवती महिलाओं का शरीर कई पड़ावों से गुजरता है, जिसके चलते हार्मोन्स का स्तर बदलता है। हार्मोन्स का स्तर बदलने की वजह से महिलाओं को प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द की शिकायत होती है।

Breast pain in pregnancy in hindi: स्तनों में परिवर्तन होना

प्रेगनेंसी के समय गर्भवती महिलाएं स्तनों में कई तरह के बदलाव महसूस करती हैं। इस दौरान स्तनों में दूध बनने की प्रक्रिया पूरी होती हैं, जिसकी वजह से स्तनों के आकार में परिवर्तन होता है और इससे दर्द भी होता है।

Breast pain in pregnancy in hindi: स्तनों का भारी होना

गर्भावस्था के तीसरे महीने तक लगभग स्तन में वसा का जमाव हो जाता है, जिससे दूध बनने की प्रक्रिया पूरी हो जाती है। वसा जमने की वजह से स्तन काफी भारी हो जाते हैं।

Breast pain in pregnancy in hindi: ब्रेस्ट से तरल पदार्थ का निकलना

गर्भावस्था में जब दूध बनने की प्रक्रिया पूरी हो जाती है, तो स्तनों में से गाढ़ा पदार्थ निकलता है, जिसके चलते इस दौरान महिलाओं को स्तन में दर्द होता है।

क्या प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द होना सामान्य है?

(Kya pregnancy me breast me dard hona normal hai)

breast pain in pregnancy

प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द होने के कारण जाननेे के बाद आपके मन में पहला सवाल तो यही होगा कि क्या ये नॉर्मल है। जी हां, प्रेगनेंसी मेंं ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) होना पूरी तरह से सामान्य है। प्रेगनेंसी की शुरूआत से ही कई गर्भवती महिलाएं इस दर्द को महसूस कर सकती हैं।

प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) होने से वे काफी संवेदनशील हो जाते हैं, जिसकी वजह से महिलाओं को इस दौरान स्तनों पर कपड़ों का लगना भी पसंद नहीं होता है।

जब गर्भवती महिलाएं गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में प्रवेश करती हैं, तो हार्मोनल बदलाव कम हो जाते हैं। हालांकि, यह जरूरी नहीं है कि इसके बाद स्तनों में दर्द न हो, क्योंकि कुछ महिलाएं तीसरी तिमाही में भी दर्द महसूस कर करती हैं।

प्रेगनेंसी में स्तनों में दर्द होने पर डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए?

(Pregnancy me breast me dard hone par doctor ke pas kab jana chahiye)

breast pain doctor

प्रेगनेेंंसी में ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) होना सामान्य होता है, लेकिन जब यह काफी ज्यादा बढ़ जाता है, तब गर्भवती महिलाओं के मन में यही सवाल आता है कि उन्हें डॉक्टर के पास जाना चाहिए या नहीं।

अगर प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) असहनीय हो जाए तो गर्भवती महिला को किसी स्त्री रोग विशेषज्ञ को दिखाना चाहिए। साथ ही ध्यान रहे कि जब गर्भवती महिलाएं डॉक्टर के पास जाएं, तो उन्हें अपनी तकलीफ़ बताने में ज़रा भी संकोच न करें।

इसके अलावा अगर नीचे लिखे गये लक्षण दिखाई दे तो गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर से तुरंत संपर्क करना चाहिए -

  • स्तनों में दर्द के साथ खुजली होना।
  • स्तनों पर दाद होना।
  • स्तनों में दर्द के साथ बैचेनी महसूस होना।

प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द की वजह का पता कैसे चलता है?

(Pregnancy me breast me dard ki wajah ka pata kaise chalta hai)

breast pain reasons

प्रेगनेंसी मेंं ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) होने पर डॉक्टर आपको मेमोग्राफी या अल्ट्रासाउंड कराने की सलाह देते हैं, ताकि यह सुनिश्चित कर सकें कि स्तनों में दर्द किसी गांठ वगैरह की वजह से तो नहीं हो रहा है।

प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द कम करने के उपाय क्या है?

(Pregnancy me breast me dard ko kam karne ke upay kya hai)

breast me dard ko kam karne ke upay

प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाएं नीचे दिये गये कुछ उपायों को आजमा सकती हैं।

Breast pain in pregnancy in hindi: खूब पानी पीएं

प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को दिन में 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए। इससे शरीर में नमी बरकरार रहती है और दर्द कम होता है।

Breast pain in pregnancy in hindi: नमक खाएं

नमक खाने से प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) से छुटकारा पाया जा सकता है, क्योंकि नमक में मौजूद गुण पानी को शरीर में रोकने में मदद करते हैं, जिसकी वजह से दर्द कम हो सकता है।

Breast pain in pregnancy in hindi: गुनगुने पानी से सिकाई करें

प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गुनगुने पानी से स्तनों की सिकाई करनी चाहिए। इससे स्तनों में दर्द से राहत मिल सकती है।

Breast pain in pregnancy in hindi: सक्रिय रहें

गर्भावस्था में कुछ महिलाएं दिन भर आराम ही करती रहती हैं, जिससे उनके शरीर के विभिन्न हिस्सों में दर्द और हो सकता है और उनका वजन बहुत बढ़ सकता है। गर्भवती महिलाओं को रोजाना 30 मिनट तक टहलना चाहिए, इससे रक्त संचार सुचारु रहता है।

Breast pain in pregnancy in hindi: सही ब्रा चुनें

प्रेगनेंसी के समय गर्भवती महिलाओं को आरामदायक ब्रा का चुनाव करना चाहिए। गर्भवती महिलाओं को इस दौरान अपने स्तनों के आकार पर ध्यान देना चाहिए और उसी के हिसाब से नयी ब्रा खरीदनी चाहिए, ताकि उन्हें आराम मिल सके।

प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द से कैसे बचे?

(Pregnancy me breast me dard se bachav kaise kare)

breast pain

प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) से पूरी तरह से बचाव संभव नहीं है, लेकिन कुछ सावधानियां बरतने से गर्भवती महिलाएं इससे थोड़ी राहत पा सकती हैं।

Breast pain in pregnancy in hindi: फास्ट फूड्स से बचें

गर्भावस्था की शुरूआत से ही गर्भवती महिलाओं को फास्ट फूड खाने से परहेज करना चाहिए।

Breast pain in pregnancy in hindi: एक्सरसाइज करें प्रेगनेंसी की शुरूआत से ही गर्भवती महिलाओं को व्यायाम करने की आदत डालनी चाहिए। एक्सरसाइज से शरीर में रक्त संचार उचित रूप से होता है, जिससे दर्द से बचा जा सकता है।

Breast pain in pregnancy in hindi: पौष्टिक आहार खाएं

गर्भावस्था में कई गर्भवती महिलाएं पौष्टिक आहार नहीं खाती हैं, जिसकी वजह से उन्हें प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट दर्द हो सकता है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं को हरी सब्जी, दाल, चावल, रोटी, अंडा, फल जैसी पौष्टिक चीजें खानी चाहिए।

प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द (breast pain in pregnancy in hindi) होना बहुत सामान्य है, इसलिए गर्भवती महिलाओं को घबराना नहीं चाहिए। गर्भवती महिलाओं को अगर ब्रेस्ट में हल्का दर्द हो तो वो ऊपर बताए गये उपायों को आजमा सकती हैं, लेकिन अगर दर्द ज्यादा है तो उन्हें बिना देर किए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

इस ब्लॉग के विषय - प्रेगनेंसी में स्तनों में दर्द क्यों होता है? (Pregnancy me breast me dard kyun hota hai),क्या प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द होना सामान्य है? (Kya pregnancy me breast me dard hona normal hai),प्रेगनेंसी में स्तनों में दर्द होने पर डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए? (Pregnancy me breast me dard hone par doctor ke pas kab jana chahiye),प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द की वजह का पता कैसे चलता है? (Pregnancy me breast me dard ki wajah ka pata kaise chalta hai),प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द को कम करने के उपाय क्या है? (Pregnancy me breast me dard ko kam karne ke upay kya hai),प्रेगनेंसी में ब्रेस्ट में दर्द से बचाव कैसे करें? (Pregnancy me breast me dard se bachav kaise kare)
नए ब्लॉग पढ़ें