प्रेगनेंसी में खुजली: कारण, 10 घरेलू उपाय (Pregnancy me khujli: karan aur 10 gharelu upay)

प्रेगनेंसी में खुजली: कारण, 10 घरेलू उपाय (Pregnancy me khujli: karan aur 10 gharelu upay)

प्रेगनेंसी में ज्यादातर गर्भवती महिलाओं को पूरे शरीर में खुजली होने लगती है। कभी कभी उन्हें सार्वजनिक स्थानों पर भी खुजली (itching during pregnancy in hindi) हो सकती है, जिसकी वजह से वो शर्मिंदा हो जाती हैं। ऐसे में कुछ महिलाएं काफी ज्यादा चिड़चिड़ी हो सकती हैं। अगर आप भी इस समस्या का सामना कर रही हैं, तो परेशान ना हों क्योंकि कुछ सामान्य उपायों से इसे कम किया जा सकता है।

इस ब्लॉग में हम आपको प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से जुड़ी सारी जानकारी दे रहे हैं।

1. क्या प्रेगनेंसी मेें खुजली होना सामान्य है?

(Kya pregnancy me khujli hona normal hai)

Pregnancy me khujli - samanya hai

प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) होना सामान्य है, लेकिन कुछ मामलों में यह लिवर के खराब होने का संकेत हो सकता है। इसलिए अगर गर्भवती महिलाओं को ज्यादा खुजली हो रही है तो उन्हें इसे नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए।

गर्भावस्था में खुजली (itching during pregnancy in hindi) होने से गर्भवती महिलाएं बहुत परेशान हो जाती हैं। ब्लॉग में नीचे इसके कारण और घरेलू उपाय बताए गए हैं, जिन्हें आज़मा कर वे इस समस्या से राहत पा सकती हैं।

2. प्रेगनेंसी में खुजली क्यों होती है?

(Pregnancy me khujli kyun hoti hai)

Pregnancy me khujli - kyu hoti hai

प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) होने के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख कारण नीचे दिए गए हैं-

  • त्वचा फैलना- प्रेगनेंसी में शिशु के विकास की वजह से महिला की त्वचा फैलती है, जिससे उन्हें खुजली हो सकती है।

  • हार्मोनल बदलाव होना- प्रेगनेंसी में महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन का लेवल बढ़ता है, जिसकी वजह से उन्हें खुजली हो सकती है।

  • रूखी त्वचा- प्रेगनेंसी में ज्यादातर गर्भवती महिलाओं की त्वचा रूखी हो जाती है, जिसकी वजह से उन्हें खुजली हो सकती है।

  • शरीर में पानी की कमी होना- प्रेगनेंसी में गर्भवती महिलाओं के शरीर में पानी की कमी होने की वजह से उन्हें खुजली हो सकती है।

  • खून की कमी होना- कई गर्भवती महिलाओं के शरीर में खून की कमी हो जाती है, जिसकी वजह से उन्हें खुजली हो सकती है।

3. प्रेगनेंसी में हाथ पैरों में खुजली क्यों होती है?

(Pregnancy me hath pairo me khujli kyun hoti hai)

Pregnancy me khujli - haath pairo me khujli

प्रेगनेंसी में गर्भवती महिलाओं को पूरे शरीर में खुजली हो सकती है, लेकिन उनके हाथ और पैरों में ज्यादा खुजली होना कई गंभीर समस्याओं की तरफ इशारा करता है।

उदाहरण के तौर पर, प्रेगनेंसी में हाथ-पैरों में खुजली होना लीवर से जुड़ी बीमारी की तरफ इशारा करता है, जिसे आॅब्सटेट्रिक कोलेस्टेसिस (obstetric cholestasis in hindi) कहा जाता है और यह आमतौर पर गर्भावस्था की तीसरी तिमाही में हो सकती है।

इसलिए अगर गर्भवती को हाथ और पैरों में बहुत ज्यादा खुजली हो रही है तो उसे फौरन डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

4. प्रेगनेंसी में पेट में खुजली क्यों होती है?

(Pregnancy me pet me khujli kyun hoti hai)

Pregnancy me khujli - pet me khujli

आमतौर पर गर्भावस्था में पेट में खुजली होना सामान्य होता है और ज्यादातर गर्भवती महिलाएं इससे परेशान रहती हैं। यह कई कारणों से हो सकती है, जिनमें उनके शरीर में होेने वाले हार्मोनल बदलाव और इस दौरान गर्भ में शिशु के विकास की वजह से, उनके पेट की त्वचा में खिंचाव होना प्रमुख हैं।

5. प्रेगनेंसी में स्तनों में खुजली क्यों होती है?

(Pregnancy me breast me khujli kyun hoti hai)

Pregnancy me khujli - stano me khujli

प्रेगनेंसी में स्तनों में खुजली होने के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख कारण नीचे लिखे गए हैं-

  • हार्मोनल बदलाव- प्रेगनेंसी में एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ने की वजह से गर्भवती महिलाओं को स्तनों में खुजली हो सकती है।

  • स्तनों का आकार बदलना- प्रेगनेंसी में स्तनों का आकार बदलने की वजह से गर्भवती महिलाओं को खुजली हो सकती है।

  • स्तनों में भारीपन- प्रेगनेंसी में स्तनों में भारीपन महसूस होने की वजह से गर्भवती महिलाओं को खुजली हो सकती है।

  • निपल्स का आकार बदलना- प्रेगनेंसी में निपल्स का आकार बदलने की वजह से गर्भवती महिलाओं को स्तनों में खुजली हो सकती है।

  • रूखी और शुष्क त्वचा- प्रेगनेंसी में स्तनों की त्वचा रूखी और शुष्क हो जाती है, जिसकी वजह से गर्भवती महिलाओं को खुजली हो सकती है।

6. प्रेगनेंसी में योनि में खुजली क्यों होती है?

(Pregnancy me yoni me khujli kyun hoti hai)

Pregnancy me khujli - yoni me khujli

प्रेगनेंसी में लगभग 15 प्रतिशत महिलाओं को योनि में खुजली होती है। गर्भावस्था में योनि में खुजली होने के कुछ प्रमुख कारण नीचे लिखे गए हैं-

  • संभोग करना- कई बार प्रेगनेंसी में संभोग या सेक्स की वजह से गर्भवती महिलाओं को योनि में खुजली हो सकती है।

  • मूत्र मार्ग में संक्रमण होना- प्रेगनेंसी में मूत्र मार्ग में संक्रमण होने की वजह से गर्भवती की योनि में खुजली हो सकती है।

  • सफेद पानी आना- अक्सर प्रेगनेंसी में सफेद पानी आने की वजह से गर्भवती की योनि में खुजली हो सकती है।

7. प्रेगनेंसी में खुजली होने पर डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए?

(Pregnancy me khujli hone par doctor ke paas kab jana chahiye)

Pregnancy me khujli - doctor ke paas kab jaana chahiye

अगर गर्भवती महिलाओं को प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) होने के साथ साथ नीचे लिखे गए लक्षण महसूस हों तो उन्हें फौरन डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए-

  • गहरे पीले रंग का पेशाब आना
  • आंखों या त्वचा का पीला होना
  • पूरे शरीर में ज्यादा खुजली होना
  • फीके रंग का मल त्यागना

8. प्रेगनेंसी में खुजली कम करने के 10 घरेलू उपाय

(Pregnancy me khujli kam karne ke 10 gharelu upay)

Pregnancy me khujli - 10 gharelu upay

प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाएं नीचे लिखे गए घरेलू उपाय आज़मा सकती हैं-

  • एलोवेरा जैल लगाएं- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को नहाने के बाद प्रभावित क्षेत्र पर एलोवेरा जैल लगाना चाहिए। यह त्वचा को नमी प्रदान करके खुजली को कम करने में सहायता करता है।

  • नारियल तेल से हल्की मालिश करें- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को प्रभावित क्षेत्र पर नारियल तेल से हल्की मालिश करनी चाहिए। यह प्रभावित क्षेत्र की त्वचा को नमी प्रदान करके खुजली कम करने में मददगार है।

  • पानी में बेकिंग सोडा मिलाकर नहाएं- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को पानी में थोड़ा सा बेकिंग सोडा मिलाकर नहाना चाहिए। इसमें मौजूद एंटीसेप्टिक, एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण खुजली खत्म करने में सहायक हैं।

  • पानी में जई का दलिया मिलाकर नहाएं- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को एक बाल्टी गुनगुने पानी में एक कप भिगोया हुआ जई का दलिया मिलाकर नहाना चाहिए।

  • नींबू का रस लगाएं- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को नींबू के रस को प्रभावित क्षेत्र पर लगाना चाहिए। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण बैक्टीरिया को खत्म कर खुजली कम करने में मददगार हैं। ध्यान रहे कि योनि पर इसे इस्तेमाल न करें।

  • तुलसी के पत्ते रगड़ें- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को तुलसी के पत्तों को प्रभावित क्षेत्र पर रगड़ना चाहिए। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण खुजली को कम करने में सहायक हैं। ध्यान रहे कि योनि पर इसे इस्तेमाल न करें।

  • सेब का सिरका लगाएं- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को प्रभावित क्षेत्र पर रूई की मदद से सेब के सिरके को लगाना चाहिए। इसमें मौजूद एंटीसेप्टिक और एंटीफंगल गुण खुजली को कम करने में कारगर हैं। ध्यान रहे कि योनि पर इसे इस्तेमाल न करें।

  • सरसों का तेल लगाएं- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को प्रभावित क्षेत्र पर सरसों का तेल लगाना चाहिए। इसमें त्वचा की नमी बरकरार रखने का गुण मौजूद होता है, जिससे उन्हें खुजली से छुटकारा मिल सकता है।

  • जैतून का तेल लगाएं- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को प्रभावित क्षेत्र पर जैतून का तेल लगाना चाहिए। यह त्वचा को नमी प्रदान करके खुजली कम करता है।

  • विटामिन ई कैप्सूल या तेल लगाएं- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से राहत पाने के लिए गर्भवती महिलाओं को प्रभावित क्षेत्र पर विटामिन ई कैप्सूल या तेल लगाना चाहिए।

इसमें मौजूद टोकोफेरोल और टोकोट्रियनोल नामक तत्व त्वचा की नमी बनाए रखते हैं, जिससे खुजली कम होती है। ध्यान रहे कि योनि पर इसे इस्तेमाल न करें।

9. प्रेगनेंसी में खुजली से बचने के लिए क्या करें?

(Pregnancy me khujli se bachne ke liye kya kare)

Pregnancy me khujli - bachne ke liye kya kare

प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से बचने के लिए गर्भवती महिलाओं को नीचे लिखी गई सावधानियां बरतनी चाहिए-

  • खूब पानी पीएं- प्रेगनेंसी की शुरूआत से ही गर्भवती महिलाओं को खुजली से बचने के लिए दिन में 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए, इससे शरीर में नमी बरकरार रहती है और त्वचा में खुजली होने की संभावना घट जाती है।

  • ज्यादा गर्म पानी से न नहाएं- प्रेगनेंसी की शुरूआत से ही गर्भवती महिलाओं को ज्यादा गर्म पानी से नहीं नहाना चाहिए, बल्कि वे इसकी जगह गुनगुने पानी का इस्तेमाल करें। ऐसा करने से शरीर से बैक्टीरिया बाहर निकलते हैं, जिससे प्रेगनेंसी में खुजली से बचा जा सकता है।

  • साफ सुथरे कपड़े पहने- प्रेगनेंसी की शुरूआत से ही गर्भवती महिलाओं को साफ सुथरे कपड़े पहनने चाहिए, क्योंकि गंदे कपड़ों में मौजूद पसीने की बदबू आदि से बैक्टीरिया फैलते हैं, जिससे खुजली होने की संभावना बढ़ती है।

  • कड़ी धूप से बचें- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से बचने के लिए गर्भवती महिलाओं को ज्यादा देर तक कड़ी धूप में नहीं रहना चाहिए।

  • शरीर को ज्यादा देर तक न पोंछे- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से बचने के लिए गर्भवती महिलाओं को नहाने के बाद अपने शरीर को ज्यादा देर तक नहीं पोंछना चाहिए। शरीर को हल्का पोंछने के बाद डॉक्टर द्वारा बताया गया बॉडी लोशन लगा लें, इससे त्वचा रूखी नहीं रहेगी।

  • गीले कपड़े न पहने- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से बचने के लिए गर्भवती महिलाओं को गीले कपड़े नहीं पहनने चाहिए, क्योंकि इससे शरीर में बैक्टीरिया चिपकने की संभावना बढ़ जाती है, जोकि खुजली पैदा कर सकते हैं।

  • एयर कंडीशनर (ए.सी.) में ज्यादा देर तक न रहें- प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) से बचने के लिए गर्भवती महिलाओं को ज्यादा देर तक एयर कंडीशनर (ए.सी.) में नहीं रहना चाहिए। इससे त्वचा रूखी हो जाती है और खुजली हो सकती है।

प्रेगनेंसी में खुजली (itching during pregnancy in hindi) होने पर गर्भवती महिलाएं ऊपर बताए गए घरेलू उपायों को आज़मा सकती हैं। इसके अलावा बहुत ज्यादा खुजली होने पर उन्हें फौरन डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए, क्योंकि यह लीवर से जुड़ी बीमारी का संकेत हो सकती है।

इस ब्लॉग के विषय- 1. क्या प्रेगनेंसी मेें खुजली होना सामान्य है? (Kya pregnancy me khujli hona normal hai)2. प्रेगनेंसी में खुजली क्यों होती है? (Pregnancy me khujli kyun hoti hai)3. प्रेगनेंसी में हाथ पैरों में खुजली क्यों होती है? (Pregnancy me hath pairo me khujli kyun hoti hai)4. प्रेगनेंसी में पेट में खुजली क्यों होती है? (Pregnancy me pet me khujli kyun hoti hai)5. प्रेगनेंसी में स्तनों में खुजली क्यों होती है? (Pregnancy me breast me khujli kyun hoti hai)6. प्रेगनेंसी में योनि में खुजली क्यों होती है? (Pregnancy me yoni me khujli kyun hoti hai)7. प्रेगनेंसी में खुजली होने पर डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए? (Pregnancy me khujli hone par doctor ke paas kab jana chahiye)8. प्रेगनेंसी में खुजली कम करने के 10 घरेलू उपाय (Pregnancy me khujli kam karne ke 10 gharelu upay)9. प्रेगनेंसी में खुजली से बचने के लिए क्या करें? (Pregnancy me khujli se bachne ke liye kya kare)
नए ब्लॉग पढ़ें
Healofy Proud Daughter