छोटे बच्चों के कपड़े कैसे धोएं? (Baccho ke kapde kaise dhoye)

छोटे बच्चों के कपड़े कैसे धोएं? (Baccho ke kapde kaise dhoye)

नवजात की रोगों से लड़ने की क्षमता इतनी कम होती है कि उसे लगभग कहीं से भी वायरस या बैक्टीरिया का संक्रमण होने का खतरा हो सकता है। बढ़ते हुए शिशु को सेहतमंद रखने के लिए माता पिता को बेहद सावधान रहना चाहिए। कीटाणुओं का सबसे बड़ा घर छोटे बच्चों के कपड़े (chhote bachho ke kapde) होते हैं, ऐसे में उन्हें नियमित रूप से साफ करना ज़रूरी है। छोटे बच्चों के कपड़े केवल साबुन या डिटर्जेंट से साफ करने पर पूरी तरह से साफ नहीं हो पाते हैं, और बहुत सावधानियाँ बरतनी चाहिए। इसलिए आपके शिशु को बीमारियों से सुरक्षित रखने के लिए इस ब्लॉग में हम आपको छोटे बच्चों के कपड़े (baccho ke kapde) साफ करने के बारे में विस्तार से बता रहे हैं।

बच्चों के कपड़े धोने से पहले क्या तैयारियाँ करनी चाहिए?

(Baccho ke kapde dhone se pehle kya taiyariya kare)

Baby clothes dhona - taiyyari

छोटे बच्चों के कपड़े धोने से पहले निम्न तैयारियाँ करें-

  • लेबल पर लिखे धुलाई के निर्देश पढ़ें- कपड़ों पर लगे लेबल पर उनकी देखभाल व धुलाई संबंधी निर्देश लिखे होते हैं। इसलिये बच्चे के कपड़ों को धोने से पहले एक बार लेबल पर लिखे निर्देश पढ़ लें।
  • सही डिटर्जेंट चुनें- कई माता पिता अपने बच्चों के कपड़े (baccho ke kapde) उसी डिटर्जेंट से धोते हैं, जिससे घर के बाकी सदस्यों के कपड़े धुलते हैं। अगर बच्चे की त्वचा संवेदनशील है या उसे किसी प्रकार का त्वचा रोग है तो उसके कपड़े बच्चों के कपड़ों के लिए विशेष रूप से तैयार किये गए डिटर्जेंट से ही धोएं। अपने बच्चे के कपड़ों के लिए सही डिटर्जेंट चुनने के लिए आप डॉक्टर की सलाह भी ले सकते हैं।
  • बच्चों के कपड़े अलग कर लें- कई माता पिता अपने बच्चों के कपड़े (baccho ke kapde) घर के बाकी लोगों के कपड़ों के साथ ही धो देते हैं, लेकिन आप ऐसा ना करें। धोने से पहले बच्चों के कपड़े बाकी कपड़ों से अलग कर लें, इससे उनमें बाकी कपड़ों से धूलकण व कीटाणु नहीं जमा होंगे।

छोटे बच्चों के कपड़े धोने के लिए डिटर्जेंट कैसे चुनें?

(Chhote bachho ke kapde dhone ke liye detergent kise choose kare)

Baby clothes dhona - detergent

बच्चों की नाज़ुक त्वचा की भलाई के लिए यह ज़रूरी है कि आप उनके कपड़े धोने के लिए ऐसे डिटर्जेंट या सर्फ का उपयोग करें, जो शिशु की त्वचा के लिए सुरक्षित हो। बच्चे के कपड़ों के लिए डिटर्जेंट ऐसे चुनें-

  • रंगहीन व बिना खुशबू वाला हो- बच्चों के कपड़े (baccho ke kapde) धोने के लिए डिटर्जेंट लेते समय रंगहीन व बिना खुशबू वाला विकल्प चुनें। रंगीन व खुशबूदार डिटर्जेंट में मौजूद कैमिकल्स से बच्चे को त्वचा संबंधी समस्या हो सकती है।
  • द्रव डिटर्जेंट चुनें- द्रव डिटर्जेंट कपड़ों से आसानी से बाहर निकल जाते हैं, जबकि पाउडर वाले डिटर्जेंट कपड़ों में जम सकते हैं और शिशु की त्वचा को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए अगर संभव हो तो बच्चे के कपड़ों के लिए द्रव डिटर्जेंट ही चुनें।
  • कैमिकल रहित विकल्प चुनें- ज्यादातर डिटर्जेंट विभिन्न कैमिकल्स से युक्त होते हैं, जैसे कपड़ों को चमकाने वाले कैमिकल आदि। छोटे बच्चों के कपड़े (chhote bachho ke kapde) धोने के लिए कैमिकल्स युक्त डिटर्जेंट ना चुनें, इनके बजाय ऑर्गेनिक यानी जैविक डिटर्जेंट का उपयोग करें। जैविक डिटर्जेंट प्राकृतिक पदार्थों से बनाये जाते हैं और इनमें बहुत कम कैमिकल्स होते हैं। ज्यादातर डिटर्जेंट ब्लीच युक्त होते हैं, ऐसे में क्लोरीन ब्लीच के बजाय ऑक्सीजन ब्लीच वाला डिटर्जेंट चुनें, क्योंकि ऑक्सीजन ब्लीच शिशु की त्वचा के लिए अपेक्षाकृत अधिक सुरक्षित होता है।
  • डिटर्जेंट एलर्जी टेस्टेड हो- एलर्जी टेस्टेड का मतलब यह है कि उस डिटर्जेंट से त्वचा संक्रमण होने का खतरा ना के बराबर है। इसलिए अपने बच्चे के कपड़ों (baccho ke kapde) के लिए डिटर्जेंट खरीदते समय यह जाँचें की उस पर एलर्जी टेस्टेड लिखा है या नहीं।

छोटे बच्चों के कपड़े कैसे धोएं?

(Chhote bachho ke kapde kaise dhoye)

Baby clothes dhona - kaise dhoye

नवजात शिशु के कपड़े धोना वाक़ई मेहनत का काम है, क्योंकि इस दौरान आपको बहुत सावधानी बरतनी पड़ती है। नीचे हम आपको छोटे बच्चों के कपड़े (chhote bachho ke kapde) धोने के दो तरीके बता रहे हैं-

1. हाथों से बच्चों के कपड़े कैसे धोएं? (Hatho se chhote bachho ke kapde kaise dhoye) Baby clothes dhona - haath se नवजात शिशु के कपड़े हाथों से धोने के लिए निम्न चरण फॉलो करें-

  • पानी का सही तापमान चुनें- बच्चों के कपड़ों (baccho ke kapde) के लेबल पर लिखे निर्देशों के अनुसार पानी का सही तापमान चुनें। अगर कपड़ों पर पानी के तापमान से जुड़ा कोई निर्देश नहीं है, तो आप गुनगुने पानी का उपयोग करें। गुनगुने पानी से कपड़े धोने से शिशु के कपड़ों में से बदबू और कीटाणु बाहर निकल जाते हैं।
  • पानी में डिटर्जेंट मिलायें- पानी में कपड़ों की मात्रा के हिसाब से डिटर्जेंट डालें और उसे अच्छी तरह घोलें। पानी को हाथ से हिलाकर झाग बनाएं।
  • छोटे बच्चों के कपड़े विसंक्रमित करें- एक बाल्टी पानी में तीन- चार चम्मच खाने का सिरका (विनेगर) डालें और इस घोल में बच्चे के कपड़ों को 30 से 40 मिनट के लिए भिगो दें। इससे कपड़ों में मौजूद बैक्टीरिया व अन्य कीटाणु नष्ट हो जाते हैं। इसके बाद कपड़ों को अच्छी तरह धो दें, इससे उनमें से सिरके की बदबू चली जायेगी।
  • करीब आधे से एक घण्टे के लिए कपड़े भिगो दें- छोटे बच्चों के कपड़े (chhote bachho ke kapde) अक्सर दाग धब्बों से भरे होते हैं, इसलिए उनकी बेहतर धुलाई के लिए उन्हें डिटर्जेंट वाले पानी में आधे से एक घण्टे के लिए भिगो दें।
  • कपड़ों को दोनों हाथों से रगड़ें- छोटे बच्चों के कपड़े बहुत नर्म व नाज़ुक होते हैं, इसलिए उन्हें हाथों से रगड़कर ही साफ करें। ब्रश लगाने से कपड़े खराब हो सकते हैं, इसलिए छोटे बच्चों के कपड़े ब्रश से साफ ना करें।
  • धुले कपड़ों को साफ पानी में खंगाले- डिटर्जेंट या साबुन लगाकर छोटे बच्चों के कपड़े (baccho ke kapde) साफ करने के बाद उन्हें साफ पानी में डालकर बाहर निकालें (खंगालें)। ऐसा तब तक करें, जब तक कि कपड़ों में से डिटर्जेंट पूरी तरह बाहर ना निकल जाए।
  • गर्म पानी में कपड़े भिगोएं- कपड़ों की धुलाई हो जाने के बाद उन्हें (कपड़ों के लिए सुरक्षित अधिकतम तापमान वाले) गर्म पानी में भिगोने से उनमें मौजूद कीटाणु नष्ट हो जाते हैं। लेकिन इस विधि से कई कपड़े खराब हो सकते हैं, इसलिए नाज़ुक कपड़ों को गर्म पानी में ना भिगोएं।
  • कपड़े सुखाएँ- कपड़े अच्छी तरह खंगालने के बाद हल्के हाथों से उन्हें निचोड़ें, ज्यादा दम ना लगाएं, इससे कपड़े खराब हो सकते हैं। सूरज की रौशनी बैक्टीरिया व कीटाणुओं की सबसे बड़ी दुश्मन है। ऐसे में बच्चे के कपड़ों (baccho ke kapde) को धोने के बाद धूप में सुखाने से उनमें मौजूद कीटाणु मर जाते हैं। कपड़ों का रँग खराब होने से बचाने के लिए उन्हें धूप में उल्टा करके सुखाएँ।

2. वॉशिंग मशीन में बच्चों के कपड़े कैसे धोएं? (Washing machine se chhote bachho ke kapde kaise dhoye) Baby clothes dhona - washing machine हाथों से कपड़े धोने पर छोटे बच्चों के कपड़े (chhote bachho ke kapde) हर तरफ से अच्छी तरह साफ हो जाते हैं, लेकिन अगर आपके पास इतना वक़्त नहीं है तो आप कपड़े धोने की मशीन (वॉशिंग मशीन) में भी बच्चों के कपड़े धो सकती हैं, इसके लिए निम्न स्टैप्स फॉलो करें-

  • कपड़ों से दाग धब्बे हटाएं- छोटे बच्चों के कपड़े (chhote bachho ke kapde) मशीन में डालने से पहले, उन्हें अच्छी तरह जांच लें कि उनमें कोई दाग धब्बे तो नहीं हैं। अगर बच्चे के कपड़े में किसी भी तरह के दाग धब्बे हैं, तो कपड़े को मशीन में डालने से पहले उसे साबुन या डिटर्जेंट के पानी से रगड़कर उसके दाग धब्बे हटा लें।
  • छोटे बच्चों के कपड़े विसंक्रमित करें- एक बाल्टी पानी में तीन- चार चम्मच खाने का सिरका (विनेगर) डालें और इस घोल में बच्चे के कपड़ों को 30 से 40 मिनट के लिए भिगो दें। इससे कपड़ों में मौजूद बैक्टीरिया व अन्य कीटाणु नष्ट हो जाते हैं। इसके बाद कपड़ों को अच्छी तरह धो दें, इससे उनमें से सिरके की बदबू चली जायेगी।
  • पानी का स्तर चुनें व डिटर्जेंट डालें- दाग धब्बे हटाने के बाद कपड़े मशीन में डाल दें। इसके बाद कपड़ों की संख्या के हिसाब से मशीन में पानी का स्तर चुनें व डिटर्जेंट डालें।
  • धुलाई का मोड़ चुनें सारी तैयारियाँ होने के बाद बच्चों के कपड़े (baccho ke kapde) सही तरह से धोने के लिए मशीन में धुलाई का उचित मोड़ चुनें। आमतौर पर छोटे बच्चों के कपड़े जेंटल मोड़ में धोने चाहिए। इसके अलावा बच्चे के कपड़े सुखाने के लिए ड्रायर का उपयोग ना करें।
  • गर्म पानी में कपड़े भिगोएं- कपड़ों की धुलाई हो जाने के बाद उन्हें (कपड़ों के लिए सुरक्षित अधिकतम तापमान वाले) गर्म पानी में भिगोने से उनमें मौजूद कीटाणु नष्ट हो जाते हैं। लेकिन इस विधि से कई कपड़े खराब हो सकते हैं, इसलिए नाज़ुक कपड़ों को गर्म पानी में ना भिगोएं।
  • धुले हुए कपड़े सुखाएँ- मशीन में धुलने व कपड़ों का पानी बाहर निकलने के बाद उन्हें झाड़ कर एक हवादार व धूप वाली जगह पर सुखाएँ। धूप में कपड़ों का रंग फीका होने से बचाने के लिए छोटे बच्चों के कपड़े (baccho ke kapde) उल्टे करके सुखाएँ।

आप ऊपर बताए गए तरीकों से छोटे बच्चों के कपड़ों में से कीटाणु हटा सकते हैं।

छोटे बच्चे की लँगोटी कैसे धोएं?

(Chhote bache ki langoti kaise dhoye)

Baby clothes dhona - langoti

बच्चे की लँगोटी या कपड़े के डायपर उसके बाकी कपड़ों से अलग धोने चाहिए। गंदी लँगोटी को तुरंत सादा पानी से धोएं और बाकी कपड़ों की तरह ही धोकर धूप में सुखा दें। इसके अलावा गंदी लंगोटियां एक सादा पानी में खंगाल कर एक टब में इकट्ठी कर लें और दिन में जब समय मिले तब सभी को एक साथ धो दें।

बच्चों के कपड़ों से दाग धब्बे कैसे हटाएं?

(Baby ke kapdo se daag kaise hataye)

Baby clothes dhona - daag

छोटे बच्चों के कपड़े धोते समय माँओं के सामने आने वाली सबसे बड़ी समस्या है, उनके कपड़ों पर लगे दाग धब्बे। ये दाग कई अलग अलग चीजों के हो सकते है। नीचे हम आपको नवजात शिशु के कपड़ों से कुछ विशेष तरह के दाग धब्बे हटाने की जानकारी दे रहे हैं-

  • दूध/मल के दाग- शिशु के कपड़ों से दूध के दाग हटाने के लिए दाग वाली जगह पर नीम्बू का रस लगाएं और थोड़ी देर बाद सादा पानी से धो दें। इससे दूध या मल के दाग निकल जाएंगे। इसके अलावा शिशु के कपड़ों से दाग धब्बे साफ करने के लिए दाग धब्बे हटाने वाले पाउडर (स्टेन रिमूवर) का उपयोग भी कर सकती हैं।
  • पेशाब के दाग- बच्चे के कपड़ों पर पेशाब के दाग अक्सर लगते रहते हैं। एक बार सूख जाने के बाद इन दागों को हटाना बहुत मुश्किल होता है, इसलिए अगर संभव हो तो गीले कपड़े को तुरंत साफ़ कर दें, इससे उसमें पेशाब के धब्बे नहीं बनेंगे। अगर कपड़े पर पेशाब के धब्बे लगे हैं, तो एक कप पानी में एक चम्मच अमोनिया घोलें और दाग वाली जगह पर लगाएं। इससे कपड़े पर लगा पेशाब का दाग हट जाएगा। फिर कपड़े को अच्छी तरह धो दें।
  • तेल के दाग- तेल के दाग सबसे ज़िद्दी दाग माने जाते हैं और सामान्य धुलाई के ज़रिए इन्हें हटाने में आपको काफी परेशानी हो सकती है। ऐसे में तेल के दाग हटाने के लिए छोटे बच्चों के कपड़े (chhote bachho ke kapde) धोने से पहले, दाग वाली जगह को स्टेन रिमूवर (दाग धब्बे हटाने का एक विशेष उत्पाद) लगाकर साफ करें और फिर धो लें। इससे कपड़ों से तेल के दाग आसानी से निकल जाएंगे।
  • फल व सब्जियों के दाग- अगर तुरंत हटाए जाएं, तो फल व सब्जियों के दाग आमतौर पर आसानी से हट जाते हैं, लेकिन दाग सूख जाने के बाद उसे हटाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। दाग हटाने के लिए बच्चों के कपड़े (baccho ke kapde) ठंडे पानी में खंगालें, इससे लगभग सभी तरह के फल व सब्जियों के दाग निकल जाते हैं। अगर कोई दाग नहीं जा रहे हैं, तो उस पर स्टेन रिमूवर लगाकर कपड़े को धो दें, दाग हट जाएगा।

छोटे बच्चों के कपड़े धोते समय किन बातों का ध्यान रखें?

(Chhote bachho ke kapde dhote samay kin bato ka dhyan rakhe)

Baby clothes dhona - dhyan

  • कपड़ों की चैन व बटन आदि बन्द करके धोएं, इससे धुलाई से उनका आकार खराब नहीं होगा।
  • सफेद कपड़ों को हमेशा अलग से धोएं, ताकि उनकी चमक व उजला रँग बरकरार रहे, और उनमें बाकी कपड़ों का रंग ना लगें।
  • बच्चों के कपड़े (baccho ke kapde) ज्यादा गर्म पानी से ना धोएं, क्योंकि गर्म पानी से कपड़े धोने से बच्चों के कपड़े खराब हो सकते हैं।
  • हल्के रंग के कपड़ों (जैसे पीले, गुलाबी आदि) को गहरे रंग के कपड़ों (जैसे भूरे, काले आदि) के साथ ना धोएं, क्योंकि गहरे कपड़े अक्सर धुलाई के समय रँग छोड़ते हैं और इससे हल्के कपड़ों का रंग खराब हो सकता है।
  • बच्चों के कपड़ों को धुलाई के बाद आम कपड़ों की तुलना में ज्यादा बार खंगालना (पानी में डालकर निकालना) चाहिए, ताकि उनमें से साबुन व डिटर्जेंट पूरी तरह बाहर आ जाए।
  • छोटे बच्चों के कपड़े (chhote bachho ke kapde) हमेशा हवादार व धूप वाली जगह सुखाने चाहिए, इससे उनमें उपस्थित कीटाणु मर जाते हैं और कपड़े अच्छी तरह सूख भी जाते हैं।
  • बच्चे को नए कपड़े पहनाने से पहले उन्हें एक बार अच्छी तरह धो लेना चाहिए। इससे कपड़ों में छिपी धूल, विशेष कैमिकल्स, व विभिन्न प्रकार के कीटाणु बाहर निकल जाते हैं और बच्चे की त्वचा संक्रमण के खतरे से सुरक्षित रहती है।
  • बच्चे की लँगोटी को उसके बाकी कपड़ों के साथ नहीं धोना चाहिए, उसे अलग से धोएं।
  • बच्चों के कपड़ों को उनके टैग पर लिखे निर्देशों के अनुसार ही धोएं।
  • अगर किसी डिटर्जेंट के उपयोग के बारे में आप निश्चित नहीं हो पा रहे हैं तो उसका इस्तेमाल ना करें, क्योंकि गलत डिटर्जेंट के उपयोग से बच्चे की त्वचा को नुकसान हो सकता है।
  • वॉशिंग मशीन में बच्चों के कपड़े (baccho ke kapde) धोते समय उन्हें सुखाने के लिए ड्रायर का इस्तेमाल ना करें, इससे कीटाणु बच्चों के कपड़ों में ही जमा होने का खतरा होता है।
  • बच्चे के कपड़ों को धोने के बाद उन्हें विसंक्रमित (संक्रमण से मुक्त) करना चाहिए, इससे कपड़ों में से कीटाणु हट जाते हैं और बच्चा विभिन्न रोगों से सुरक्षित रहता है।

बच्चे के कपड़ों की देखभाल का तरीका बड़ों के कपड़ों से थोड़ा अलग होता है, लेकिन इसके बारे में कई लोगों को सही जानकारी नहीं होती। छोटे बच्चों के कपड़े (chhote bachho ke kapde) साफ रखना, उनकी अच्छी सेहत के लिए बहुत ज़रूरी है, क्योंकि इनमें कीटाणु होने पर शिशु तुरंत बीमार हो सकता है। इसलिए छोटे बच्चों के कपड़े (baccho ke kapde) साफ करते समय ब्लॉग में बताई गई बातों का ध्यान रखें और अपने बच्चे को साफ कीटाणुरहित कपड़े पहनाएं।

इस ब्लॉग के विषय- बच्चों के कपड़े धोने से पहले क्या तैयारियाँ करनी चाहिए? (Baccho ke kapde dhone se pehle kya taiyariya kare)छोटे बच्चों के कपड़े धोने के लिए डिटर्जेंट कैसे चुनें? (Chhote bachho ke kapde dhone ke liye detergent kise choose kare)छोटे बच्चों के कपड़े कैसे धोएं? (Chhote bachho ke kapde kaise dhoye)1. हाथों से बच्चों के कपड़े कैसे धोएं ? (Hatho se chhote bachho ke kapde kaise dhoye)2. वॉशिंग मशीन में बच्चों के कपड़े कैसे धोएं? (Washing machine se chhote bachho ke kapde kaise dhoye)छोटे बच्चे की लँगोटी कैसे धोएं ? (Chhote bache ki langoti kaise dhoye)बच्चों के कपड़ों से दाग धब्बे कैसे हटाएं? (Baby ke kapdo se daag kaise hataye)छोटे बच्चों के कपड़े धोते समय किन बातों का ध्यान रखें? (Chhote bachho ke kapde dhote samay kin bato ka dhyan rakhe)
नए ब्लॉग पढ़ें