प्रेगनेंसी में कब्ज: लक्षण, कारण और घरेलू उपाय (Constipation during Pregnancy in Hindi)

प्रेगनेंसी में कब्ज: लक्षण, कारण और घरेलू उपाय (Constipation during Pregnancy in Hindi)
गर्भावस्था में पेट में दर्द, सख्त और सूखा मलत्याग होना कब्ज की समस्या का संकेत हो सकता है। कई महिलाओं को गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या से गुजरना पड़ता है।
कब्ज की समस्या मुख्यतः गर्भवती महिलाओं के शरीर में कुछ हार्मोनों के बदलाव के कारण होती है। भारत में प्रत्येक 10 में से 8 महिलाओं को गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या का सामना करना पड़ता है। इस ब्लॉग में हम आपको गर्भावस्था में कब्ज की समस्या से जुड़े लक्षण, कारण और कब्ज दूर करने से संबंधित कुछ घरेलू उपायों के बारे में बताएंगे -
पढ़े - प्रेगनेंसी में कमर दर्द से बचने के उपाय (pregnancy me kamar dard se bachne ke upay)
1. क्या प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या आम है? (kya pregnancy me kabj ki samasya aam hai) 2. प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या कब होती है? (pregnancy me kabj ki samasya kab hoti hai) 3. प्रेगनेंसी में कब्ज के लक्षण क्या होते है? (pregnancy me kabj ke lakshan kya hote hai) 4. प्रेगनेंसी में कब्ज होने के क्या कारण होते हैं? (pregnancy me kabj hone ke kya karan hai) 5. प्रेगनेंसी में कब्ज होने पर क्या खाना चाहिए? (pregnancy me kabj hone par kya khana chahiye) 6. प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने के लिए क्या व्यायाम करें? (pregnancy me kabj dur karne ke liye kya exercise kare) 7. प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने के घरेलू उपाय क्या हैं? (pregnancy me kabj dur karne ke liye gharelu upay kya hai) 8. प्रेगनेंसी में कब्ज से कैसे बचें? (pregnancy me kabj se kaise bache) 9. प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या शिशु के लिए कितनी हानिकारक होती है? (pregnancy me kabj ki samasya bacche ke liye kitna hanikarak hoti hai)
1. क्या प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या आम है? (kya pregnancy me kabj ki samasya aam hai) क्या प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या आम है? (kya pregnancy me kabj ki samasya aam hai) गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या होना काफी सामान्य है, यह लगभग हर महिला को होती है। विशेषज्ञों का कहना है कि जब गर्भावस्था में महिलाओं के गर्भाशय का आकार बढ़ता है तो इससे उनकी मांसपेशियों पर दबाव पड़ता है और उनके शारीरिक गतिविधियों में बदलाव होता है। हालांकि डॉक्टर कहते हैं कि यह कोई बड़ी समस्या नहीं है, लेकिन गर्भावस्था में परेशानी ज्यादा होने पर आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।
पढ़े - प्रेगनेंसी में खून की कमी (pregnancy me khoon ki kami)
2. गर्भावस्था में कब्ज की समस्या कब होती है? (garbhavastha me kabz ki samasya kab hoti hai) गर्भावस्था में कब्ज की समस्या कब होती है? (garbhavastha me kabz ki samasya kab hoti hai) आमतौर पर प्रेगनेंट महिला को गर्भावस्था के दूसरे महीने से कब्ज की समस्या होती है। गर्भावस्था में कब्ज खानपान संबंधी आदतों की वजह से हो सकता है। गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) होने पर यह पूरी प्रेगनेंसी में रह सकती है, इसीलिए कब्ज के लक्षणों को जान कर इसका उपचार करना बेहद जरूरी है।
पढ़े - प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड के लिए क्या खाये? (garbhavastha me folic acid ke liye kya khaye)
3. प्रेगनेंसी में कब्ज के लक्षण क्या होते है? (pregnancy me kabj ke lakshan kya hote hai) प्रेगनेंसी में कब्ज के लक्षण क्या होते है? (pregnancy me kabj ke lakshan kya hote hai) गर्भावस्था में सूखा मल त्यागने की समस्या या कब्ज होने के लक्षणों की जानकारी होना जरूरी है, जिनके बारे नीेचे बताया गया है -
  • गर्भावस्था में कब्ज के लक्षण : एक या दो दिन के अतंराल में मल त्याग : एक या दो दिन के अंतराल में मल का न आना गर्भावस्था में कब्ज की समस्या का एक लक्षण हो सकता है। इसकी वजह आंतों में मल का फंसा रह जाना या धीरे आगे बढ़ना हो सकती है, जिससे मल सूख जाता है और उसे बाद में त्यागने में परेशानी होती है।
  • गर्भावस्था में कब्ज के लक्षण : पेट के निचले हिस्से में दर्द : गर्भावस्था में कब्ज की समस्या होने पर अक्सर मल त्यागने से पहले पेट के निचले हिस्से में दर्द महसूस होता है।
  • गर्भावस्था में कब्ज के लक्षण : मुंह से गंध आना : प्रेगनेंसी के दौरान सुबह अगर गर्भवती महिला को मुंह से गंध आने की परेशानी होती है तो यह कब्ज का लक्षण हो सकता है।
  • गर्भावस्था में कब्ज के लक्षण : गुदा से खून आना : यदि मल त्याग करते समय आपके गुदा से खून आता है तो आपको कब्ज की समस्या हो सकती है।
  • गर्भावस्था में कब्ज के लक्षण : भूख न लगना : प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को भूख न लगना भी कब्ज का संकेत हो सकता हैं।
  • गर्भावस्था में कब्ज के लक्षण : पेट सख्त होना : जब भोजन आंतों में इक्ट्ठा हो जाता है तो पेट सख्त हो जाता है और इससे गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) होता है।
  • गर्भावस्था में कब्ज के लक्षण : पेट का फूलना : अचानक पेट के फूलने को भी गर्भावस्था में कब्ज का लक्षण माना जाता है।
पढ़े - प्रेगनेंसी में नार्मल डिलीवरी के लिए एक्सरसाइज (pregnancy me normal delivery ke liye exercise)
4. प्रेगनेंसी में कब्ज होने के क्या कारण होते हैं? (pregnancy me kabj hone ke kya karan hai) प्रेगनेंसी में कब्ज होने के क्या कारण होते हैं? (pregnancy me kabj hone ke kya karan hai) यूं तो कम फायबर युक्त आहार के खाने से और कुछ शारीरिक समस्याओं के कारण गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की परेशानी होती है लेकिन प्रत्येक गर्भवती महिला में गर्भावस्था में कब्ज से संबंधित कारण अलग हो सकते हैं। सही समय पर कारणों का पता लगाना आवश्यक है ताकि समय रहते इसका उपचार किया जा सके। गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) होने के कारण निम्न है -
  • शरीर में प्रोजेस्टेरोन हार्मोन की वृद्धि होने से : गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या का मुख्य कारण शरीर में प्रोजेस्टेरोन हार्मोन (progesterone hormone in hindi) की वृद्धि होती है। दरअसल गर्भावस्था के दौरान प्रोजेस्टेरोन हार्मोन में वृद्धि से आपके शरीर की मांसपेशियों में ढीलापन आता है और इससे आंतों के काम करने की गति भी धीमी हो जाती है। धीमी गति से आंतों का चलना मतलब धीमी पाचन क्रिया। इसी वजह से प्रेगनेंट महिलाओं को कब्ज होता है।
  • गर्भाशय पर पड़ने वाले दबाव से : गर्भ में पल रहे शिशु के बढ़ने से महिलाओं के गर्भाशय का आकार बढ़ता है और इस वजह से पेट के निचले हिस्से पर दबाव बनता है। इस कारण गर्भावस्था में कब्ज की समस्या होती है।
  • गुदा पर दबाव पड़ने से : गर्भाशय का आकार बढ़ने से महिलाओं के गुदे पर भी इसका दबाव पड़ता है। इस कारण से भी गर्भावती महिलाओं को गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या होती है।
  • आयरन की गोलियां लेने से : गर्भावस्था में खून की कमी दूर करने के लिए महिलाओं को आयरन की गोलियां दी जाती है। क्योंकि आयरन की गोलियों से पाचन प्रणाली में रुकावट आती हैं इसीलिए अत्यधिक मात्रा में आयरन की गोलियों के सेवन से महिलाओं को कब्ज हो सकता है।
  • फाइबर युक्त आहार की कमी से : गर्भवती महिलाओं के भोजन में फाइबर युक्त आहार की कमी के कारण गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) होता है। फाइबर युक्त आहार में हरी सब्जियां, दलिया, फल अादि शामिल है।
  • तनाव से : गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में ज्यादा तनाव के कारण कब्ज की समस्या हो सकती है।
  • कम पानी पीने से : प्रेगनेंसी में शरीर को अधिक तरल पदार्थ की जरूरत होती है इसीलिए डॉक्टर भरपूर मात्रा में पानी पीने की सलाह देते हैं, लेकिन अगर आपके शरीर को पानी की पर्याप्त मात्रा नहीं मिल पाती तो आपको गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) हो सकता है।
  • कम एक्टिव (सक्रिय) रहने से : कम एक्टिव या सक्रिय रहने के कारण भी गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की शिकायत होने की संभावना होती है।
पढ़े - प्रेगनेंसी में पौष्टिक भोजन के लिए खाएं (pregnancy me healthy food diet) 5. प्रेगनेंसी में कब्ज होने पर क्या खाना चाहिए? (pregnancy me kabj hone par kya khana chahiye) प्रेगनेंसी में कब्ज होने पर क्या खाना चाहिए? (pregnancy me kabj hone par kya khana chahiye) नियमित आहार में बदलाव करके महिलाएं गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) से छुटकारा पा सकती हैं। गर्भावस्था में कब्ज की समस्या दूर करने के लिए नीचे बताई गई खाने की वस्तुओं को अपने आहार में शामिल करें -
  • गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) से दूर करने के लिए प्रेगनेंट महिलाओं को फाइबर युक्त आहार अपने रोजमर्रा के भोजन में शामिल करना चाहिए। फाइबर युक्त आहार मेें, बींस, आलू, गोभी, ब्रोकली, टमाटर, गाजर और पत्तेदार सब्जियां शामिल हैं।
  • गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या को दूर करने के लिए आप ज्यादा से ज्यादा फल खा सकती हैं। फलों में आप मुख्यतः केला, खरबूज, नींबू, आम, सेब आदि खा सकती हैं।
  • दूध और डेयरी वस्तुओं के सेवन से आप गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या को दूर रख सकती हैं। इनमें दही, मक्खन, चीज़ आदि खा सकती हैं।
  • अगर आपको गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या है तो आपके लिए सबसे फायदेमंद होगा कि आप दिनभर में कम से कम 12 गिलास पानी पीएं। भरपूर मात्रा में पानी पीने से कब्ज की शिकायत दूर हो सकती है।
  • किशमिश को कब्ज दूर करने का रामवाण माना जाता है। गर्भावस्था में रोजाना किशमिश खाने से भी आपको कब्ज की समस्या से छुटकारा मिल सकता है। रोज कुछ सूखे अंगूर या किशमिश को करीब तीन घंटों तक पानी में भिगों कर रखें। इसके बाद पानी से किशमिश को निकाल कर आप उसे चबाकर खा लें। किशमिश खाने से आंतों को ताकत मिलती है और मल त्यागने में किसी प्रकार की बाधा उत्पन्न नहीं होती।
6. प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने के लिए क्या व्यायाम करें? (pregnancy me kabj dur karne ke liye kya exercise kare) प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने के लिए क्या व्यायाम करें? (pregnancy me kabj dur karne ke liye kya exercise kare) गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की परेशानी दूर करने के लिए व्यायाम या एक्सरसाइज भी जरूरी होती है। यहां कुछ एेसी सामान्य एक्सरसाइज के बारे में बताया जा रहा है, जिन्हें आप घर पर आसानी से कर सकती हैं, लेकिन एक्सरसाइज करते हुए अगर किसी भी प्रकार की परेशानी महसूस हो तो अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें। पैदल चलें : प्रेगनेंसी के दौरान पैदल चलने से आपकी सेहत और आपके गर्भ में पल रहे शिशु के विकास पर काफी अच्छा असर पड़ता है। गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या होने पर अगर आप रोजाना सुबह और शाम को करीब 30 मिनट तक पैदल चलती हैं तो इससे कब्ज की समस्या से आपको राहत मिल सकेगी। योग एवं प्राणायाम करें : गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की शिकायत को दूर करने के लिए रोजाना योग और प्राणायाम भी फायदेमंद होता है। गर्भावस्था में कब्ज से राहत पाने के लिए कपालभाति और अनुलोम विलोम प्राणायम काफी असरदार होता है। तैराकी करें : आप ये तो जानते ही हैं कि गर्भावस्था में तैराकी से गर्भवती महिला और उसका बच्चा सेहतमंद बनता है और यह नॉर्मल डिलीवरी में भी सहायक होता है। लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि कब्ज की समस्या दूर करने के लिए भी डॉक्टर तैराकी की सलाह देते हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि तैराकी से काफी हद तक गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या से राहत मिलती है।
पढ़े - प्रेगनेंसी में सेक्स के फायदे (pregnancy me sex ke fayde)
7. प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने के घरेलू उपाय क्या हैं? (pregnancy me kabj dur karne ke liye gharelu upay kya hai) प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने के घरेलू उपाय क्या हैं? (pregnancy me kabj dur karne ke liye gharelu upay kya hai) गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की परेशानी दूर करने के लिए कुछ घरेलू उपचार नीचे बताए गए हैं -
  • गरम पानी के साथ नींबू : नींबू में सिट्रिक एसिड पाया जाता है, इसीलिए इसे पेट साफ करने का सबसे अच्छा उपचार माना जाता है। रोज सुबह एक कप गरम पानी में एक नींबू निचोड़ कर पी लें।
  • ईसबगोल : ईसबगोल को पेट से संबंधित हर समस्या का रामबाण इलाज कहा जाता है। यह गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की परेशानी दूर करने में भी मदद करता है।
  • जैतून का तेल : पाचन तंत्र ठीक से काम न करने से गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या होती है। विशेषज्ञ कहते हैं जैतून का तेल पाचन तंत्र को सुचारू रूप से काम करने के लिए उत्तेजित करता है, समय पर इसके इस्तेमाल से कब्ज की समस्या से राहत मिल सकती है। रोज सुबह खाली पेट एक चम्मच जैतून का तेल पीएं।
  • पालक : नियमित रूप से पालक का जूस पीने से आपको गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या से छुटकारा मिल सकता है।
  • अरंडी का तेल : रोज रात में सोने से पहले एक चम्मच अरंडी के तेल को एक गिलास दूध में डाल कर पिएं, इससे आपका पेट साफ होगा और आपकी कब्ज की समस्या दूर होगी।
  • संतरे का जूस : संतरे के जूस में विटामिन सी और फाइबर पाए जाते हैं। इसीलिए कब्ज की समस्या होने पर संतरे का जूस लेना भी फायदेमंद होता है।
  • अलसी के बीज : अलसी के बीजों (flax seed) को हल्की आंच पर थोड़ी देर तक भून लें, उसके बाद उन बीजोंं का पाउडर बना लें। रोजाना एक गिलास पानी में पाउडर को भिगो कर रखें और करीब तीन घंटे के बाद इसे छान कर पी लें।
पढ़े - गर्भावस्‍था में शुगर (गर्भकालीन मधुमेह) के लक्षण (pregnancy me sugar ke lakshan)
8. प्रेगनेंसी में कब्ज से कैसे बचें? (pregnancy me kabj se kaise bache) प्रेगनेंसी में कब्ज से कैसे बचें? (pregnancy me kabj se kaise bache)
पढ़े - प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए (pregnancy me kya nahi khana chahiye)
9. प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या शिशु के लिए कितनी हानिकारक होती है? (pregnancy me kabj ki samasya bacche ke liye kitna hanikarak hoti hai) प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या शिशु के लिए कितनी हानिकारक होती है? (pregnancy me kabj ki samasya bacche ke liye kitna hanikarak hoti hai) महिलाओं को गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) होने से काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ता है, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि महिलाओं के गर्भ में पल रहे बच्चें पर इससे कोई खास असर नहीं पड़ता है। हालांकि लंबे समय तक गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) होने से गर्भवती महिला को भूख न लगने की समस्या हो सकती है, जिससे गर्भ में पल रहे शिशु के शारीरिक और मानसिक विकास में बाधा आ सकती है। कब्ज का इलाज में देरी होने से प्रेगनेंट महिलाओं को बावासीर (hemorrhoids in hindi), फिशर (fissure in hindi) की समस्या हो सकती है। गर्भावस्था में कब्ज (constipation during pregnancy in hindi) की समस्या से जूझ रही महिलाओं की समस्या ज्यादा बढ़ने पर उन्हें डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। बस एक बात का ध्यान रखें कि कब्ज की समस्या ज्यादा होने पर आप खुद किसी प्रकार की दवाईयों, चाहे गोली हो या चाहे टॉनिक, का इस्तेमाल न करें। इससे आपको और आपके बच्चे को नुकसान पहुंच सकता है। कब्ज की परेशानी से छुटकारा पाने के लिए आप इस ब्लॉग में बताए गए सामान्य घरेलू उपचारों का इस्तेमाल कर सकती हैं।
पढ़े - प्रेगनेंसी में कैसे सोना चाहिए (pregnancy me nind aane ke tarike)
इस ब्लॉग के विषय - 1. क्या प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या आम है? (kya pregnancy me kabj ki samasya aam hai), 2. प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या कब होती है? (pregnancy me kabj ki samasya kab hoti hai), 3. प्रेगनेंसी में कब्ज के लक्षण क्या होते है? (pregnancy me kabj ke lakshan kya hote hai), 4. प्रेगनेंसी में कब्ज होने के क्या कारण होते हैं? (pregnancy me kabj hone ke kya karan hai), 5. प्रेगनेंसी में कब्ज होने पर क्या खाना चाहिए? (pregnancy me kabj hone par kya khana chahiye), 6. प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने के लिए क्या व्यायाम करें? (pregnancy me kabj dur karne ke liye kya exercise kare), 7. प्रेगनेंसी में कब्ज दूर करने के घरेलू उपाय क्या हैं? (pregnancy me kabj dur karne ke liye gharelu upay kya hai), 8. प्रेगनेंसी में कब्ज से कैसे बचें? (pregnancy me kabj se kaise bache), 9. प्रेगनेंसी में कब्ज की समस्या शिशु के लिए कितनी हानिकारक होती है? (pregnancy me kabj ki samasya bacche ke liye kitna hanikarak hoti hai)
नए ब्लॉग पढ़ें