गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में शारीरिक परेशानियां और उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me sharirik pareshaniya aur upay)

गर्भावस्था यूं तो काफी तरह की शारीरिक परेशानियों से भरी होती है लेकिन बच्चे के आने का मात्र अहसास आपकी इन परेशानियों को काफी छोटा बना देता है। आपको बस अपना ख्याल रखना है और संयम से काम लेना है और अपना ध्यान रखना है। तो आज इस ब्लॉग में हम आपको गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में यानी तीसरी तिमाही में होने वाली परेशानियों और उनसे छुटकारा पाने के उपाय बताएंगे। पढ़िए विस्तार से - गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में योनि से सफेद पानी आना (pregnancy ke 3rd trimester me yoni se safed pani aana) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में हाथ-पैर पर सूजन (prenancy ke 3rd trimester me hath pairo me sujan) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में हाथ-पैर की सूजन कम करने के उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me hath pair ki sujan kam karne ke upay) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सांस लेने में तकलीफ क्यों होती है? (breathing problem in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में खुजली की समस्या क्यों होती है? (causes of itching problem in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में खुजली से राहत पाने के घरेलू उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me khuji se rahat pane ke upay) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सीने में जलन क्यों होती है? (cause of acidity and heartburn in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सीने की जलन से राहत पाने के घरेलू उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me seene ki jalan se rahat pane ke gharelu upay) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में बार-बार पेशाब लगने की समस्या क्यों होती है? (cause of frequent urination in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में योनि में दर्द क्यों होता है? (causes of vaginal pain in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में शुगर की समस्या क्यों होती है? (causes of sugar or gestational diabetes in pregnancy) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में ब्लीडिंग (bleeding in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में ब्लीडिंग के कारण (causes of bleeding in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में नींद क्यों नहीं आती? (pregnancy ke 3rd trimester me nind kyun nahi aati?) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में कैसे सोएं? (pregnancy ke 3rd trimester me kaise soye?) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में तनाव होना (pregnancy ke 3rd trimester me tanav) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में खांसी-ज़ुकाम क्यों होता है? (causes of cough and cold in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सर्दी-ज़ुकाम के घरेलू उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me sardi jukham door karne ke gharelu upay) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में योनि से सफेद पानी आना (pregnancy ke 3rd trimester me yoni se safed pani aana) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में नीचे से सफेद पानी आना सामान्य है। ऐसा गर्भावस्था के दौरान होने वाले हार्मोनल परिवर्तन (hormonal changes in hindi) के चलते होता है। अगर यह बदबू रहित है, सफेद है तो कोई चिंता की बात नहीं है लेकिन अगर इस डिस्चार्ज से स्मेल (गंध) आए या आपको योनि क्षेत्र में खुजली और जलन महसूस हो तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में हाथ-पैर पर सूजन (pregnancy ke 3rd trimester me hath pairo me sujan) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में हाथ-पैर पर सूजन (pregnancy ke 3rd trimester me hath pairo me sujan) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में भी आपको पैरों और टखनों में सूजन की परेशानी रहेगी। सूजन के कारण आपके जूतों का साइज़ भी बढ़ सकता है। इस समस्या को इडिमा (edema in hindi) भी कहा जाता है। यह समस्या शाम के समय में ज्यादा बढ़ती है और गर्भावस्था के आखिरी दिनों तक सूजन आपके हाथों में भी देखने को मिल सकती है। अगर आपने उंगलियों में अंगूठियां पहनी हैं तो हो सकता है वो सूजन के कारण कसने लगे। गर्भावस्था में थोड़ी बहुत सूजन आना सामान्य है। लेकिन यह समस्या ज्यादा बढ़ती नज़र आए तो डॉक्टर से संपर्क करें। गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में हाथ-पैर की सूजन कम करने के उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me hath pair ki sujan kam karne ke upay)
  • खूब सारा पानी पिएं (8 से 10 ग्लास रोज़ाना)। आप जितना पानी पिएंगी सूजन उतनी कम होगी।
  • पौष्टिक खानपान लें और नमक ज्यादा ना खाएं।
  • सूजन वाले हिस्से पर तेल मालिश कराने से भी लाभ मिलता है।
  • कोशिश करें कि हमेशा बाईं ओर करवट लेकर लेटें, इससे नस पर दबाव नहीं पड़ता।
  • पैरों को ऊंची सतह पर रखें। उदाहरण के लिए अगर आप कुर्सी पर बैठें तो सामने एक स्टूल रखकर उस पर पैर रखें।
गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सांस लेने में तकलीफ क्यों होती है? (breathing problem in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सांस लेने में तकलीफ क्यों होती है? (breathing problem in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में आपको सांस लेने में तकलीफ भी हो सकती है। ऐसा गर्भाशय के नाभि के ऊपर आ जाने के कारण होता है। इसके अलावा खून की कमी (anemia in hindi) होने से भी सांस लेने में तकलीफ हो सकती है। ऐसे में आप थोड़ा चलने में थक जाएंगी, आपका सांस फूलने लगेगा। इस समस्या के कारण आपके शिशु को भी सांस लेने में परेशानी होती है। गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सांस लेने में तकलीफ हो तो आपको व्यायाम पर खास ध्यान देना पड़ेगा। आप जब व्यायाम करेंगी तो शिशु को भी ऑक्सिजन मिलेगी। गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में आप घर का काम ना करें। जितना हो सके आराम करें। सांस लेने में तकलीफ के साथ आपको यह परेशानियां हों तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें -
  • अगर आपकी दिल की धड़कन बहुत तेज़ हो तो।
  • थकान होने पर अगर आपको सीने में दर्द महसूस हो तो।
  • रात के समय या लेटते समय सांस लेने में ज्यादा तकलीफ हो तो।
  • इसके अलावा सांस लेने में तकलीफ खून की कमी (anemia in hindi) चलते भी हो सकती है। इसलिए डॉक्टर से जांच करवाएं और सही दवा लें।
गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में खुजली की समस्या क्यों होती है? (causes of itching problem in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में त्वचा पर खुजली की समस्या होना आम है, खासकर पेट और स्तनों पर। तकरीबन एक चौथाई गर्भवती महिलाओं को इस दौरान त्वचा पर खुजली की समस्या होती है। इसका कारण हार्मोनल बदलाव और त्वचा पर पड़े खिंचाव होते हैं। अगर यह समस्या पूरे शरीर पर हो रही है तो डॉक्टर से संपर्क करें। गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में खुजली से राहत पाने के घरेलू उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me khuji se rahat pane ke upay)
  • अगर आप गर्म पानी से नहाती हैं तो उसकी बजाय हल्के गुनगुने पानी से नहाएं। त्वचा को ज्यादा रगड़े नहीं, इससे यह रूखी हो जाएगी और खुजली और बढ़ सकती है।
  • नहाने के बाद हर बार क्रीम लगाएं। अगर ऐलोवीरा (aloe vera in hindi) युक्त क्रीम मिले तो उसका इस्तेमाल करें।
  • खुजली वाले हिस्से पर ठंडी चीज़ें रखें जैसे गीला तौलिया, खीरा आदि। इससे कुछ देर के लिए आपको राहत महसूस होगी।
  • जब भी खुजलाहट महसूस हो तो मुलायम कपड़े या हथेली से सहलाएं। नाखूनों से खुजली करने पर त्वचा छिल सकती है।
गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सीने में जलन क्यों होती है? (cause of acidity and heartburn in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में भी सीने में जलन (heartburn in hindi), पेट में जलन और एसीडिटी (acidity in hindi) की समस्या बरकरार रहती है। जैसे-जैसे शिशु पेट में बड़ा होता है वो पेट के अंगों को ऊपर की ओर धकेलना शुरू करता है जिससे एसीडिटी होने लगती है। गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सीने की जलन से राहत पाने के घरेलू उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me seene ki jalan se rahat pane ke gharelu upay) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सीने की जलन से राहत पाने के घरेलू उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me seene ki jalan se rahat pane ke gharelu upay)
  • दही - इस दौरान दही खाने से आपको काफी फायदा पहुंचेगा क्योंकि दही से पाचन शक्ति सुधरती है और खाना आसानी से पच जाता है।
  • अदरक - पेट संबंधी किसी भी परेशानी को दूर करने के लिए अदरक काफी फायदेमंद होती है। सीने में जलन होने पर अदकर तुरंत आराम दिलाती है। आप आधा चम्मच अदरक का रस पिएं, आपको आराम मिलेगा।
  • ऐलोवीरा (aloe vera) - सीने में जलन और एसीडिटी की समस्या दूर करने के लिए ऐलोवीरा के जूस को पानी में मिलाकर पिएं, आपको आराम मिलेगा।
  • सौंफ - सौंफ और मिश्री को एक साथ पीसकर इसका चूर्ण बना लें और रोज़ाना रात को सोने से पहले आधा चम्मच चूर्ण गुनगुने पानी के साथ खाएं। सौंफ पेट संबंधी किसी भी समस्या में राहत पहुंचाती है ।
गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में बार-बार पेशाब (टॉयलेट) लगने की समस्या क्यों होती है? (cause of frequent urination in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में बार-बार पेशाब (टॉयलेट) लगने की समस्या क्यों होती है? (cause of frequent urination in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में बार-बार टॉयलेट आने की समस्या (frequent urination in hindi) सबसे ज्यादा बढ़ जाती है। ऐसा बढ़े हुए गर्भाशय के कारण होता है जो आपकी ब्लैडर (मूत्राशय) पर दबाव बनाता है। यह समस्या शिशु के जन्म के बाद ठीक हो जाएगी। गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में बार-बार पेशाब लगने के दौरान ध्यान रखें ये बातें
  • बार-बार पेशाब लगने की समस्या से बचने के लिए आप चाय, कॉफी जैसी चीज़ें कम लें।
  • अगर आपको ज्यादा खांसी या छीक आती है तो सैनिटरी पैड का इस्तेमाल करें। क्योंकि छीकने या खांसने पर आपको मूत्र रिसाव हो सकता है।
  • अगर आपको पेशाब करते समय जलन महसूस हो तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें, क्योंकि यह यूरिन इन्फेक्शन का लक्षण हो सकता है।
गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में योनि में दर्द क्यों होता है? (causes of vaginal pain in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में योनि में दर्द क्यों होता है? (causes of vaginal pain in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के अंतिम चरण में योनि में दर्द की समस्या भी होती है। जब गर्भाशय ग्रीवा जल्‍दी चौड़ी होने लगती है तो योनि में दर्द होता है। हालांकि यह चिंता का विषय नहीं है लेकिन फिर भी इस बारे में अपने डॉक्टर को बता देना चाहिए। अगर आपको योनि या पेट के निचले हिस्‍से में ज्यादा दर्द हो रहा है, तो तुरंत अपने डॉक्‍टर से संपर्क करें। गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में शुगर की समस्या क्यों होती है? (causes of sugar or gestational diabetes in pregnancy) गर्भावस्था के दौरान कुछ महिलाओं में शुगर की समस्या (gestational diabetes in hindi) भी देखी गई है, जिसका कारण होता है हार्मोनल परिवर्तन। यह समस्या ज्यादातर प्रेगनेंसी के 24वें सप्ताह से 28वें सप्ताह के बीच देखने को मिलती है और डॉक्टर तीसरी तिमाही के दौरान शुगर की जांच ज़रूर करते हैं। इसका सही समय पर इलाज होना चाहिए वर्ना मां और बच्चे दोनो पर ही बुरा असर पड़ता है। इसके लिए आपको सही खानपान लेना चाहिए और नियमित रूप से व्यायाम करना चाहिए। इसके अलावा डॉक्टर आपको इंसुलिन के इन्जेक्शन लगाते हैं। जैसे-जैसे गर्भावस्था में वृद्धि होती है इंसुलिन (insulin in hindi) की मात्रा बदल सकती है। गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में ब्लीडिंग (bleeding in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था-के-सातवें-आठवें-और-नौंवे-महीने-में-ब्लीडिंग-bleeding-in-pregnancy-rd-trimesterगर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में ब्लीडिंग (bleeding in pregnancy 3rd trimester)" src="https://storage.googleapis.com/healofy-blogs/images/Inside%20images/Trimester%203%20problems/image6.jpg" /> गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में ब्लीडिंग (bleeding in hindi) होना इस बात का संकेत हो सकता है कि बच्चे को अंदर किसी तरह की तकलीफ हो रही है और अगर इसका तुरंत इलाज ना कराया जाए तो गर्भपात (miscarriage in hindi) भी हो सकता है। गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में ब्लीडिंग के कारण (causes of bleeding in pregnancy 3rd trimester)
  • जब प्लेसेंटा (placenta in hindi) गर्भाशय में काफी नीचे की ओर आ जाती है और गर्भाशय को आंशिक रूप से पूरी तरह से ढक लेती है तब ब्लीडिंग होती है। इसे प्लेसेंटा प्रीविया (placenta previa in hindi) कहते हैं। ऐसे में बिना दर्द के ब्लीडिंग होती है। हालांकि यह 200 में से सिर्फ एक ही प्रेगनेंसी में देखने को मिलती है लेकिन यह एक गंभीर समस्या है और इसका समय पर इलाज कराना ज़रूरी है।
  • अगर बच्चे के जन्म से पहले ही गर्भनाल गर्भाशय की दीवार से अलग हो जाए तो भी ब्लीडिंग हो सकती है। ज्यादातर ऐसा हाई बीपी (high blood pressure in hindi), तंबाकू आदि के प्रयोग से होता है।
  • जब शिशु की रक्त वाहिका (blood vessel in hindi) फट जाती है तो भारी मात्रा में ब्लीडिंग होती है। ये वो झिल्ली है जिसके ज़रिये मां से बच्चे में रक्त का संचरण होता है।
  • इसके अलावा योनि संक्रमण होने पर भी ब्लीडिंग हो सकती है।चूंकि गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने काफी नाज़ुक होती है और बच्चे को आने में ज्यादा समय नहीं होता इसलिए अगर इस दौरान ब्लीडिंग होती है तो आप लापरवाही ना बरतें और अपने डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें।
गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में नींद क्यों नहीं आती? (pregnancy ke 3rd trimester me nind kyun nahi aati?) गर्भावस्था की तीसरी तिमाही तक आपका पेट काफी बढ़ जाएगा जिस वजह से आपको सोने में काफी परेशानी होगी। इसके अलावा बढ़े हुए गर्भाशय के कारण मूत्राशय पर पड़ने वाला दबाव आपको बार-बार पेशाब जाने (बार-बार टॉयलेट) के लिए मजबूर करता है, जिस कारण आपकी नींद खराब होती है। गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में कैसे सोएं? (pregnancy ke 3rd trimester me kaise soye?) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में कैसे सोएं? (pregnancy ke 3rd trimester me kaise soye?)
  • जब भी सोने जाएं पहले ही पेशाब कर लें और सोने से 2 घंटे पहले तक कुछ भी तरल पदार्थ ना लें। हालांकि ऐसा ज़रूरी नहीं है कि यह तरीका पूरी तरह सफल होगा ही, लेकिन कुछ ना कुछ फर्क तो पड़ेगा।
  • इसके अलावा बढ़े हुए पेट के कारण आराम ना मिले तो आप बाईं ओर करवट करके लेटें, आपको राहत मिलेगी और नींद अच्छी आएगी।
  • पीठ के सहारे एकदम सीधे होकर ना सोएं।
  • रात को सोते समय चाय, कॉफी, चॉकलेट कोल्ड ड्रिंक आदि ना पिएं। इससे नींद खराब होती है।
गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में तनाव होना (pregnancy ke 3rd trimester me tanav)गर्भावस्था में महिला का तनाव में आना भी सामान्य है। डिलीवरी की तारीख जितनी पास आती जाती है उतना ही तनाव, घबराहट बढ़ती जाती है। खासतौर पर उन महिलाओं में जिनकी पहली बार डिलीवरी होने वाली हो। इसके साथ-साथ वो भावनात्मक रूप से भी कमज़ोर हो जाती हैं और उन्हें बात-बात पर रोना आता है। तनाव मां और बच्चे दोनों के लिए ही हानिकारक होता है, ऐसे में ज़रूरी है कि -
  • आप सकारात्मक चीज़ों में ध्यान लगाएं।
  • डिलीवरी के बारे में ज्यादा ना सोचकर अपने अाने वाले बच्चे के बारे में सोचें।
  • जो काम करने से आपको खुशी मिले, वही करें।
  • अपने दोस्तों से बात करें, घर में अपनी परेशानी शेयर करें। आपको अच्छा महसूस होगा।
गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में खांसी-ज़ुकाम क्यों होता है? (causes of cough and cold in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में खांसी-ज़ुकाम क्यों होता है? (causes of cough and cold in pregnancy 3rd trimester) गर्भावस्था में आपकी बीमारियों से लड़ने की शक्ति कमज़ोर पड़ जाती है जिस कारण खांसी-ज़ुकाम (cough and cold in hindi) जैसी बीमारियां जल्दी घेर लेती हैं। इसकी शुरुआत गले में खराश से होती है। गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सर्दी-ज़ुकाम के घरेलू उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me sardi jukham door karne ke gharelu upay)
  • गर्म पानी पिएं, आपको राहत मिलेगी।
  • अदरक के रस में शहद डालकर खाने से फायदा होगा।
  • एक ग्लास गुनगुने पानी में नींबू और शहद डालकर पीने से राहत मिलेगी।
  • अगर आपकी नाक बंद है तो गर्म पानी की भांप ले सकती हैं।
  • ज्यादा समस्या होने पर डॉक्टर से सलाह लें।
तो ये थीं गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौवें महीने के दौरान होने वालीं कुछ सामान्य समस्याएं। यूं तो हर समस्या परेशानी ही देती है लेकिन एक सही इलाज और सावधानियां अपनाकर आप इन समस्याओं को कम ज़रूर कर सकती हैं। इसलिए अपने ऊपर पूरा ध्यान दें और अगर कोई समस्या हो तो समय रहते उसका सही इलाज करें।
इस ब्लॉग के विषय - गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में योनि से सफेद पानी आना (pregnancy ke 3rd trimester me yoni se safed pani aana), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में हाथ-पैर पर सूजन (prenancy ke 3rd trimester me hath pairo me sujan),गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में हाथ-पैर की सूजन कम करने के उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me hath pair ki sujan kam karne ke upay),गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सांस लेने में तकलीफ क्यों होती है? (breathing problem in pregnancy 3rd trimester), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में खुजली की समस्या क्यों होती है? (causes of itching problem in pregnancy 3rd trimester), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में खुजली से राहत पाने के घरेलू उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me khuji se rahat pane ke upay), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सीने में जलन क्यों होती है? (cause of acidity and heartburn in pregnancy 3rd trimester), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सीने की जलन से राहत पाने के घरेलू उपाय (pregnancy ke 3rd trimester me seene ki jalan se rahat pane ke gharelu upay), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में बार-बार पेशाब लगने की समस्या क्यों होती है? (cause of frequent urination in pregnancy 3rd trimester), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में योनि में दर्द क्यों होता है? (causes of vaginal pain in pregnancy 3rd trimester), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में शुगर की समस्या क्यों होती है? (causes of sugar or gestational diabetes in pregnancy), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में ब्लीडिंग (bleeding in pregnancy 3rd trimester), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में ब्लीडिंग के कारण (causes of bleeding in pregnancy 3rd trimester), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में नींद क्यों नहीं आती? (pregnancy ke 3rd trimester me nind kyun nahi aati?), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में कैसे सोएं? (pregnancy ke 3rd trimester me kaise soye?), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में तनाव होना (pregnancy ke 3rd trimester me tanav), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में खांसी-ज़ुकाम क्यों होता है? (causes of cough and cold in pregnancy 3rd trimester), गर्भावस्था के सातवें, आठवें और नौंवे महीने में सर्दी-ज़ुकाम के घरेलू उपाय (pregnancy ke 3rd trimester e sardi jukham door karne ke gharelu upay)
नए ब्लॉग पढ़ें