डिलीवरी के बाद सूजन : कारण और कम करने के उपाय (Delivery ke baad sujan : karan aur upay)

प्रसव के बाद जहां एक तरफ महिलाओं के कंधों पर जिम्मेदारियों का बोझ बढ़ता है, तो वहीं दूसरी तरफ उन्हें कई तरह की शारीरिक और मानसिक पीड़ा से गुजरना पड़ता है, जिनमें से एक है सूजन। प्रसव के बाद सूजन होना बेहद सामान्य है, लेकिन कई महिलाएं इसे देखकर काफी ज्यादा घबरा जाती हैं। अब हम आपको इस ब्लॉग में डिलीवरी के बाद सूजन (delivery ke baad sujan) से जुड़ी सभी जानकारियाँ देने जा रहे हैं।

1.डिलीवरी के बाद सूजन क्यों होती हैं? (Delivery ke baad sujan kyun hoti hai)

2.क्या डिलीवरी के बाद सूजन होना सामान्य है? (Kya delivery ke baad sujan hona normal hai)

3.क्या प्रेगनेंसी के बाद सूजन होना हानिकारक है? (Kya pregnancy ke baad sujan hona hanikarak hai)

4.प्रसव के बाद सूजन होने पर डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए? (Delivery ke baad sujan hone par doctor ke pas kab jana chahiye)

5.डिलीवरी के बाद सूजन कम करने के 10 घरेलू उपाय (Delivery ke baad sujan kam karne ke 10 gharelu upay)

6.डिलीवरी के बाद सूजन कम करने के कुछ अन्य सुझाव क्या है? (Delivery ke baad sujan kam karne ke kuch any sujhav kya hai)

1. डिलीवरी के बाद सूजन क्यों होती हैं? (Delivery ke baad sujan kyun hoti hai)

डिलीवरी के बाद अधिकांश महिलाओं के पेट, टखने और चेहरे के पास सूजन हो जाती है, जिससे उन्हें काफी परेशानी होती है। दरअसल, प्रेगनेंसी के समय शिशु के विकास के लिए गर्भवती महिला के शरीर में 50 प्रतिशत ज्यादा खून और अन्य तरल पदार्थ बनते हैं, जोकि डिलीवरी के बाद चेहरे, हाथों आदि जगहों पर दबाव बनाते हैं।

इसके अलावा डिलीवरी के बाद सूजन (delivery ke baad sujan) होने के पीछे कई और कारण हो सकते हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं -

  • ज्यादा देर तक सीधे खड़े रहने की वजह से सूजन हो सकती है।
  • अधिक काम करने की वजह से सूजन हो सकती है।
  • खून की कमी (अनीमिया) होने की वजह से सूजन हो सकती है।
  • उच्च सोडियम युक्त पदार्थों (आचार, बर्गर, सूप, नमकीन, पनीर आदि) को खाने से सूजन हो सकती है।
  • कैफीन युक्त पदार्थों (चॉकलेट, कॉफी आदि) को लेने से सूजन की हो सकती है।
  • पोटैशियम की कमी से सूजन हो सकती है।

2. क्या डिलीवरी के बाद सूजन होना सामान्य है? (Kya delivery ke baad sujan hona normal hai)

गर्भावस्था के समय महिलाओं के शरीर में 50 प्रतिशत ज्यादा खून या अन्य तरल पदार्थ बनते हैं, जोकि शिशु के जन्म के बाद पेशाब या पसीने के माध्यम से धीरे धीरे निकलने लगते हैं, इसलिए प्रसव के बाद सूजन होना सामान्य है।

डिलीवरी के बाद सूजन (delivery ke baad sujan) कुछ ही हफ्तों में ठीक हो जाती है, जिसकी वजह से महिलाओं को इसकी टेंशन नहीं लेनी चाहिए, लेकिन अगर सूजन कुछ हफ्तों के बाद भी बनी रहे तो बिना किसी लापरवाही के डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

3.क्या प्रेगनेंसी के बाद सूजन होना हानिकारक है? (Kya pregnancy ke baad sujan hona hanikarak hai)

प्रेगनेंसी के बाद सूजन ज्यादा होने से कई समस्याएं पैदा हो सकती हैं, जोकि महिलाओं के लिए हानिकारक हो सकती हैं। दरअसल, अगर सूजन के साथ पेशाब का रंग गहरा पीला या फिर पेशाब ज्यादा आ रहा हो, तो यह किडनी फेल होने का लक्षण हो सकता है, ऐसे में महिला को डॉक्टर से समय रहते ही सलाह ले लेनी चाहिए।

4.प्रसव के बाद सूजन होने पर डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए? (Delivery ke baad sujan hone par doctor ke pas kab jana chahiye)

डिलीवरी के बाद सूजन (delivery ke baad sujan) के साथ साथ अगर नीचे लिखे गये लक्षण दिखाई दें, तो ऐसी स्थितियों में महिलाओं को डॉक्टर से ज़रूर संपर्क करना चाहिए -

  • आंखों से धुंधला दिखाई देना।
  • तेज़ सिरदर्द होना।
  • बुखार होना।
  • बदन दर्द होना।
  • योनि से सफेद पानी आना।
  • सांस लेने में परेशानी होना।
  • त्वचा पर लाल लाल निशान होना।
  • पेशाब का रंग गहरा पीला होना।

5. डिलीवरी के बाद सूजन कम करने के 10 घरेलू उपाय (Delivery ke baad sujan kam karne ke 10 gharelu upay)

महिलाएं डिलीवरी के बाद सूजन (delivery ke baad sujan) को कम करने के लिए नीचे लिखे गये कुछ प्रमुख घरेलू उपायोंं को आज़मा सकती हैं -

  • खूब पानी पीएं - डिलीवरी के बाद महिलाओं के शरीर में पानी की कमी हो जाती है, जिसकी वजह से उन्हें दिन में 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए, क्योंकि इससे तरल पदार्थ बाहर आने लगते हैं और सूजन कम हो सकती है।
  • स्वस्थ आहार लें - डिलीवरी के बाद सूजन (delivery ke baad sujan) से राहत पाने के लिए महिलाओं को पोटैशियम, विटामिन ई और सी से भरपूर केला, दही, दूध, बीन्स, सोयाबीन, सूखे मेवे, हरी सब्जियां आदि चीज़ें खानी चाहिए।
  • मालिश करें - डिलीवरी के बाद सूजन (delivery ke baad sujan) को कम करने के लिए महिलाओं को प्रभावित क्षेत्र की मालिश करनी चाहिए, क्योंकि इससे रक्त संचार सुचारु होता है।
  • सिकाई करें - डिलीवरी के बाद सूजन से थोड़ी राहत पाने के लिए हल्के गर्म पानी से सिकाई करनी चाहिए।
  • हल्का फुल्का व्यायाम करें - डिलीवरी के बाद सूजन (delivery ke baad sujan) को कम करने के लिए महिलाओं को हल्का फुल्का व्यायाम करना चाहिए, इसके लिए वो स्ट्रेचिंग कर सकती हैं।
  • ठंडे वातावरण में रहें - अगर आपने शिशु को गर्मी के मौसम में जन्म दिया है, तो उसके बाद आप जिस कमरे में रह रही हैं, उसमें हवा के आने जाने का उचित प्रबंध होना चाहिए, क्योंंकि कई बार सूजन गर्मी की वजह से भी हो सकती है।
  • गोभी के पत्तों का इस्तेमाल करें - प्रसव के बाद सूजन (delivery ke baad sujan) से राहत पाने के लिए गोभी के पत्तों को पहले धो लें, फिर फ्रीज में रख दें, उसके बाद ठंडे हो जाए तो उन्हें प्रभावित क्षेत्र पर तब तक लगाएं, जब तक उनमें से पानी न निकलने लगे।
  • हर्बल चाय पीएं - प्रसव के बाद सूजन (delivery ke baad sujan) से राहत पाने के लिए महिलाओं को हर्बल चाय पीनी चाहिए, क्योंकि यह शरीर में मौजूद अतिरिक्त तरल पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करती है।
  • आयरन युक्त चीज़ें खाएं - महिलाओ को प्रसव के बाद खून की कमी को दूर करने के लिए आयरन युक्त चीज़ें (सेब, केला आदि) खानी चाहिए, इससे सूजन से राहत मिलती है।
  • ज्यादा देर तक एक ही अवस्था में न बैठे रहे - प्रसव के बाद महिलाओं को ज्यादा देर तक एक ही जगह नहीं बैंठे रहना चाहिए, बल्कि थोड़ी थोड़ी देर के बाद अपनी अवस्था को बदलते रहना चाहिए।

6. डिलीवरी के बाद सूजन कम करने के कुछ अन्य सुझाव क्या है? (Delivery ke baad sujan kam karne ke kuch any sujhav kya hai)

  • प्रसव के बाद सूजन होने पर महिलाओं को ज्यादा देर तक सीधे खड़े नहीं रहना चाहिए।
  • महिलाओं को टाइट कपड़े नहीं पहनने चाहिए।
  • महिलाएं सूजन कम करने के लिए मोजें पहन सकती हैं।
  • प्रसव के बाद सूजन होने पर महिलाओं को ज्यादा नमक नहीं खाना चाहिए।
  • डिलीवरी के बाद सूजन (delivery ke baad sujan) की समस्या होने पर महिलाओं को आरामदायक जूतों का चुनाव करना चाहिए।
  • फास्ट फूड जैसे बर्गर, पिज्जा आदि चीज़ों को नज़रअंदाज़ करना चाहिए।
  • महिलाओं को कैफीन युक्त चीज़ें जैसे कॉफी, चॉकलेट आदि को खाने से बचना चाहिए।
  • महिलाओं को बाईं या दाईं करवट लेकर लेटना चाहिए, इससे रक्त का संचार सही रूप से होता है।
  • प्रसव के बाद कुछ महीनों तक महिलाओं को ज्यादा काम नहीं करना चाहिए।

डिलीवरी के बाद सूजन (delivery ke baad sujan) लगभग सभी महिलाओं को होती है, लेकिन अगर यह सूजन दो हफ्ते से ज्यादा समय तक रहती है, तो बिना किसी देर के उन्हें डॉक्टर से ज़रूर संपर्क करना चाहिए, क्योंकि यह किसी संक्रमण की वजह से भी हो सकती है। डिलीवरी के बाद महिलाओं को नवजात शिशु की देखभाल करने के साथ साथ अपने ऊपर भी ध्यान देना चाहिए, क्योंकि इस समय उनके शरीर को अतिरिक्त देखभाल की ज़रूरत होती है, जिसकी वजह से उन्हें अपने शरीर में होने वाले छोटे मोटे बदलावों को नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए।

इस ब्लॉग के विषय - 1.डिलीवरी के बाद सूजन क्यों होती हैं? (Delivery ke baad sujan kyun hoti hai),

2.क्या डिलीवरी के बाद सूजन होना सामान्य है? (Kya delivery ke baad sujan hona normal hai),

3.क्या प्रेगनेंसी के बाद सूजन होना हानिकारक है? (Kya pregnancy ke baad sujan hona hanikarak hai),

4.प्रसव के बाद सूजन होने पर डॉक्टर के पास कब जाना चाहिए? (Delivery ke baad sujan hone par doctor ke pas kab jana chahiye),

5.डिलीवरी के बाद सूजन कम करने के 10 घरेलू उपाय (Delivery ke baad sujan kam karne ke 10 gharelu upay),

6.डिलीवरी के बाद सूजन कम करने के कुछ अन्य सुझाव क्या है? (Delivery ke baad sujan kam karne ke kuch any sujhav kya hai)

नए ब्लॉग पढ़ें