प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड के फायदे, सही मात्रा और कमी के लक्षण (Pregnancy me folic acid ke fayde, sahi matra, kami ke lakshan)

गर्भवती महिला के स्वास्थ्य और उसके बच्चे के विकास के लिए हर महिला को फोलिक एसिड (folic acid in hindi) युक्त आहार या गोलियां लेने की सलाह दी जाती है। यूं तो डॉक्टर गर्भवती महिलाओं को फोलिक एसिड (folic acid in hindi) युक्त आहार लेने की सलाह देते हैं, लेकिन अगर फोलिक एसिड युक्त आहार (folic acid food in hindi) से महिलाओं में फोलेट की जरूरत पूरी नहीं होती तो उन्हें फोलिक एसिड की गोलियां (folic acid tablets in hindi) लेने को कहा जाता है। डॉक्टरों का कहना है कि गर्भावस्था के पहले महीने से ही प्रेग्नेंट महिलाओं को फोलिक एसिड (folic acid in hindi) लेना चाहिए। इस ब्लॉग में प्रेगनेंसी के दौरान फोलिक एसिड की गोलियां और भोजन से जुड़ी तमाम जानकारियां दी गई है।
पढ़े - प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए (pregnancy me kya khana chahiye)
1. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड का महत्व क्या है? (pregnancy me folic acid ka mahatw kya hai) 2. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड लेना क्यों जरूरी है? (pregnancy me folic acid lena kyun jaruri hai) 3. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड कब लेना चाहिए? (pregnancy me folic acid kab leni chahiye) 4. गर्भावस्था में फोलिक एसिड कितनी मात्रा में लेना चाहिए? (garbhavastha me folic acid kitni matra me lena chahiye) 5. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड की कमी के लक्षण क्या होते हैं? (pregnancy me folic acid ki kami ke lakshan) 6. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड के लिए क्या खाना चाहिए? (pregnancy me folic acid ke liye kya khana chahiye) 7. गर्भावस्था में फोलिक एसिड लेने से क्या फायदे होते हैं? (pregnancy me folic acid lene se kya fayde hote hai) 8. फोलिक एसिड की कमी से शिशु को क्या बीमारी हो सकती है? (folic acid ki kami se shishu ko kya bimari ho sakti hai) 9. फोलिक एसिड के दुष्प्रभाव क्या हैं? (side effects of folic acid in hindi) 1. फोलिक एसिड क्या है? (folic acid kya hai) फोलिक एसिड (folic acid in hindi) विटामीन बी9 (vitamin B9 in hindi) का एक प्रकार है जो विशेषज्ञ, खून की कमी या एनीमिया (anemia in hindi), किडनी की समस्या (kidney problems in hindi) और शरीर में जरूरी पोषक तत्वों की कमी होने पर देते है।
पढ़े - प्रेगनेंसी में खून बढ़ाने के तरीके (pregnancy me khoon badhane ke tarike)
2. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड लेना क्यों जरूरी है? (pregnancy me folic acid lena kyun jaruri hai) फोलिक एसिड (folic acid in hindi) अापके गर्भ में पल रहे शिशु के लिए बेहद जरूरी होता है क्योंकि फोलिक एसिड में विटामीन 'बी' 9 (vitamin B9 in hindi) होता है जो गर्भवती महिलाओं में अच्छे लाल खून का निर्माण करता है। यह शिशु के विकास के लिए काफी महत्वपूर्ण होता है। गर्भावस्था में जरूरी मात्रा में फोलिक एसिड (folic acid in hindi) न लिए जाने पर आप एनीमिया (anemia in hindi) की शिकार हो सकती है। डॉक्टरों का कहना है कि केवल गर्भावस्था के दौरान ही नहीं बल्कि प्रेगनेंसी की कोशिश करने वाली महिलाओं को भी फोलिक एसिड युक्त आहार या फोलिक एसिड की गोलियां (folic acid tablets in hindi) लेनी चाहिए। इससे उनके गर्भ ठहरने की संभावना भी बढ़ जाती है।
पढ़े - प्रेगनेंसी में पौष्टिक भोजन के लिए खाएं (pregnancy me healthy food diet)
3. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड कब लेना चाहिए? (pregnancy me folic acid kab leni chahiye) डॉक्टर की जांच और उनकी सलाह के बाद गर्भावस्था की पहली तिमाही से फोलिक एसिड (folic acid in hindi) ले सकते हैं। अमूमन हर प्रेगनेंट महिला को प्रेग्नेंसी की शुरुआत से ही फोलिक एसिड लेने की सलाह दी जाती है। विशेषज्ञों का कहना है कि गर्भावस्था में महिलाओं को फोलिक एसिड (folic acid in hindi) युक्त आहार लेने को कहा जाता है लेकिन अगर उसके बाद भी उनके शरीर में फोलेट की कमी पाई जाती है तो उन्हें फोलिक एसिड की गोलियां (folic acid tablets in hindi) लेने को कहा जाता है।
पढ़े - प्रेगनेंसी में पेट दर्द कम करने के उपाय (pregnancy me pet dard kam karne ke upay)
4. गर्भावस्था में फोलिक एसिड कितनी मात्रा में लेना चाहिए? (garbhavastha me folic acid kitni matra me lena chahiye) फोलिक एसिड (folic acid in hindi) की मात्रा को विश्व स्वास्थ्य संगठन (world health organisation) द्वारा चार भागों में विभाजित किया गया है, जिसमें गर्भधारण से पहले, गर्भावस्था में पहली तिमाही के दौरान, दूसरी एवं तीसरी तिमाही के दौरान और गर्भावस्था के बाद फोलिक एसिड (folic acid in hindi) की कितनी मात्रा लेनी चाहिए, यह बताया गया है। यहां प्रेगनेंसी के दौरान फोलिक एसिड की कितनी मात्रा लेनी चाहिए उसके बारे बताया जा रहा है।
पढ़े - बेबी गोरा कैसे होता है (gora baby kaise hota hai) 
नोट - अगर आप फोलिक एसिड की गोलियां लेने का सोच रही हैं तो इससे पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर ले लें। 5. प्रेगनेंसी मेंं फोलिक एसिड की कमी के लक्षण क्या होते हैं? (pregnancy me folic acid ki kami ke lakshan kya hote hai) गर्भावस्था के दौरान अक्सर कुछ लक्षणों से महिलाओं में फोलिक एसिड की कमी होने का पता लगाया जाता है। प्रेग्नेंसी में फोलिक एसिड (folic acid in hindi) की कमी के लक्षण नीचे बताए गए हैं - 6. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड के लिए क्या खाना चाहिए? (pregnancy me folic acid ke liye kya khana chahiye) डॉक्टर की सलाह से ही फोलिक एसिड युक्त आहार और फोलिक एसिड की गोलियों की मात्रा (folic acid tablets in hindi) लेनी चाहिए, क्योंकि विशेषज्ञ ही आपको इसकी उचित मात्रा की जानकारी दे सकते हैं। फोलिक एसिड युक्त आहार निम्न हैं -
  • हरी पत्तेदार सब्जियां
  • फलियां (ग्वार की फली, मटर, सेम की फली आदि )
  • साग
  • राजमा
  • बीट, बीन्स, मशरूम
  • साबुत अनाज और दालें
  • दूध और सोया उत्पाद
  • अंडे की जर्दी
  • चुकंदर, अंकुरित चने और केले
  • कुछ मछलियों में भी फोलिक एसिड (folic acid in hindi) होता हैं जिनमें मैकरल (mackerel fish in hindi) और सालमन मछली (salmon fish in hindi) शामिल है।
नोट - अलग-अलग प्रदेशों में इन मछलियों को अलग नामों से जाना जाता है।
पढ़े - प्रेगनेंसी में क्या नहीं खाना चाहिए (pregnancy me kya nahi khana chahiye)
7. गर्भावस्था में फोलिक एसिड लेने से क्या फायदे होते हैं? (pregnancy me folic acid lene se kya fayde hote hai) फोलिक एसिड से बच्चे को होने वाले फायदे (folic acid se bacche ko hone wale fayde) -
  • फोलिक एसिड (folic acid in hindi) से गर्भ में पल रहे शिशु के मानसिक विकास में मदद मिलती है।
  • फोलिक एसिड से शिशु को किसी भी आनुवंशिक बीमारी के होने की संभावना कम होती है।
  • प्रेगनेंंट महिला के शरीर में फोलिक एसिड (folic acid in hindi) की भरपूर मात्रा होने से उनके शिशु के रीढ़ की हड्डी का विकास अच्‍छी तरह से हो पाता है।
  • प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड लेने से भ्रूण का वजन अच्छे से बढ़ता है।
  • गर्भावस्था में फोलिक एसिड (folic acid in hindi) लेने से गर्भ में पल रहे शिशु को कटे होंठ और कटे तालु (cleft lip and palate in hindi) का खतरा नहीं होता।
  • गर्भावस्था में फोलिक एसिड शिशु के डीएनए (DNA in hindi) निर्माण में सहायक होता है।
  • गर्भावस्था में फोलिक एसिड (folic acid inhindi) लेने से शिशु के प्लेसेंटा (placenta in hindi) का निर्माण होता है।
फोलिक एसिड लेने से मां को क्या फायदे होते हैं? (folic acid se maa ko fayde)
  • प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड (folic acid in hindi) के सेवन से समयपूर्व डिलीवरी का खतरा लगभग 70 फीसदी तक कम हो जाता है।
  • फोलिक एसिड से एनीमिया (anemia in hindi) से जूझ रही प्रेग्नेंट महिलाओं की शरीर में रेड ब्लड सेल (red blood cells in hindi) का निर्माण होता है।
  • प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड (folic acid in hindi) के लेने से गर्भपात (miscarriage in hindi) होने का खतरा कम हो जाता है।
  • गर्भावस्था में फोलिक एसिड (folic acid in hindi) से महिलाओं को प्री-एक्लेमप्सिया (pre-eclampsia in hindi), हार्ट अटैक (heart attack in hindi), एल्जाइमर (alzheimer in hindi), और कैंसर आदि होने का खतरा कम होता है।
8. फोलिक एसिड की कमी से शिशु को क्या बीमारी हो सकती है? (folic acid ki kami se shishu ko kya bimari ho sakti hai) फोलिक एसिड (folic acid in hindi) की कमी से शिशु को कई प्रकार के जन्मदोष और रोग होने की संभावना होती है। इसीलिए डॉक्टर प्रेगनेंसी के दौरान शिशु के संपूर्ण विकास के लिए फोलिक एसिड (folic acid in hindi) लेने की सलाह देते हैं। कुछ मामलों में पूरी प्रेगनेंसी के दौरान गर्भवती महिला को फोलिक एसिड लेने को कहा जाता है। फोलिक एसिड (folic acid in hindi) की कमी से शिशु को जन्म से होने वाली समस्याएं नीचे बताई गई है -
  • स्पाइना बिफिडा (spina bifida in hindi) - गर्भ में पल रहे भ्रूण तक फोलिक एसिड (folic acid in hindi) की उचित मात्रा न पहुंचने पर उसे स्पाइना बिफिडा जैसी न्यूरल (नसों से संबंधित) बीमारी होने का खतरा हो सकता है। स्पाइना बिफिडा एक एेसी बीमारी है, जिसके होने की वजह से भ्रूण की रीढ़ की हड्डी (spinal cord in hindi) के चारों ओर सुरक्षा परत नहीं बन पाती है और वहां पर जगह खाली रह जाती है। इससे बाद में शिशु को रीढ़ की हड्डी से जुड़ी परेशानियां हो सकती है।
  • एनिन्सफाैली (anencephaly in hindi) - फोलिक एसिड (folic acid in hindi) की मात्रा में कमी की वजह से गर्भ में भ्रूण की दिमागी विकास में बाधा उत्पन्न होती है, जिसे एनिन्सफाैली (anencephaly in hindi) कहा जाता है। विशेषज्ञों का कहना है कि एनिन्सफाैली से पीड़ित होने वाले बच्चों की आयु बहुत कम होती है।
  • शिशु का वजन कम होना- प्रेग्नेंसी के दौरान फोलिक एसिड (folic acid in hindi) की पर्याप्त मात्रा न लेने से शिशु का जन्म के समय से ही वजन कम होता है। कभी-कभी यह समस्या आजीवनकाल बच्चों में रह जाती है।
9. फोलिक एसिड के दुष्प्रभाव क्या हैं? (side effects of folic acid in hindi) प्रेग्नेंसी में फोलिक एसिड (folic acid in hindi) के सेवन से कई दुष्प्रभाव (side effects of folic acid in pregnancy in hindi) हो सकते हैं। इसीलिए फोलिक एसिड लेने से पहले इसकी उचित मात्रा की जानकारी अपने विशेषज्ञ से जरूर ले लें। फोलिक एसिड (folic acid in hindi) से होने वाले कुछ दुष्प्रभाव निम्न हैं - प्रेगनेंसी में गर्भवती महिला को होने वाली स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के समाधान के लिए फोलिक एसिड की गोलियां (folic acid tablets in hindi) दी जाती है। इस ब्लॉग में फोलिक एसिड (folic acid in hindi) कब, क्यों और कितनी मात्रा में लेना चाहिए, इसकी तमाम जानकारी दी गई है। ध्यान रखें गर्भावस्था मेंं फोलिक एसिड के सेवन से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर कर लें।
पढ़े - प्रेगनेंसी में शुगर के कारण (pregnancy me sugar hone ke karan)

इस ब्लॉग के विषय - 1. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड का महत्व क्या है? (pregnancy me folic acid ka mahatw kya hai), 2. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड लेना क्यों जरूरी है? (pregnancy me folic acid lena kyun jaruri hai), 3. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड कब लेना चाहिए? (pregnancy me folic acid kab leni chahiye), 4. गर्भावस्था में फोलिक एसिड कितनी मात्रा में लेना चाहिए? (garbhavastha me folic acid kitni matra me lena chahiye), 5. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड की कमी के लक्षण क्या होते हैं? (pregnancy me folic acid ki kami ke lakshan), 6. प्रेगनेंसी में फोलिक एसिड के लिए क्या खाना चाहिए? (pregnancy me folic acid ke liye kya khana chahiye) , 7. गर्भावस्था में फोलिक एसिड लेने से क्या फायदे होते हैं? (pregnancy me folic acid lene se kya fayde hote hai), फोलिक एसिड से बच्चे को होने वाले फायदे (folic acid se bacche ko hone wale fayde),फोलिक एसिड लेने से मां को होने वाले फायदे (folic acid se maa ko hone wale fayde), 8. फोलिक एसिड की कमी से शिशु को क्या बीमारी हो सकती है? (folic acid ki kami se shishu ko kya bimari ho sakti hai), 9. फोलिक एसिड के दुष्प्रभाव क्या हैं? (side effects of folic acid in hindi),
नए ब्लॉग पढ़ें